प्रेग्नेंसी में कैसे और कितनी मात्रा में लें पोटेशियम?

भाषा चयन करे

31st May, 2017

Pregnancy mein potassium ka mahatv | प्रेग्नेंसी में पोटेशियम का महत्त्व | Importance of potassium in Pregnancyप्रेगनेंसी में, पोटेशियम की कमी होने पर महिलाओं को टांगों में दर्द की समस्या होने लगती है। वहीं जिन महिलाओं को यह समस्या पहले से ही हो उनके लिए स्थिति और भी खराब हो सकती है। प्रेग्नेंसी के दौरान, महिलाओं में रक्त की मात्रा भी 50% तक बढ़ जाती है। जिसका सीधा सा अर्थ है कि आपको अन्य पोषक तत्वों और पोटेशियम की अतिरिक्त मात्रा में आवश्यक्ता होती है।
Image Source

पोटेशियम शरीर में रक्तचाप को बढ़ने से रोकता है और शरीर में तरल शक्ति को नियंत्रित भी रखता है,  ऐसे में पोटेशियम की सही मात्रा शरीर में ऊर्जा बनाए रखने और धड़कन को सामान्य बनाए रखने के लिए भी बहुत जरुरी है। गर्भवती महिलाओं को प्रत्येक दिन कम से कम 4700 मिलीग्राम पोटेशियम जरूरी लेना चाहिए।

किन-किन चीजों से कितनी मात्रा में लिया जा सकता है पोटेशियम?

  • सफ़ेद पैक्ड एक कप बीन्स (फलियां)- 1,189 मिलीग्राम
  • सर्दियों में मिलने वाली सब्जियां (एक कप)- 896 मिलीग्राम
  • एक कप पका हुआ पालक- 839 मिलीग्राम
  • एक कप पकी हुई दाल- 731 मिलीग्राम
  • एक माध्यम आकार की पकी हुई शकरकन्द- 694 मिलीग्राम
  • एक कप वसा रहित दही- 579 मिलीग्राम
  • एक कप संतरे का जूस- 496 मिलीग्राम
  • एक कप ब्रोकिली- 457 मिलीग्राम
  • एक कप खरबूजा- 431 मिलीग्राम
  • एक कप किशमिश- 250 मिलीग्राम

वह महिलाएं जो अपने खान-पान को लेकर काफी सजग हैं और जानती हैं कि उन्हें कितनी मात्रा में किस चीज का सेवन करना है उनके लिए इसकी आपूर्ति प्राकर्तिक रूप से करना आसान  होता है। लेकिन जिन महिलाओं में पोटेशियम की कमी होने की आशंका हो उन्हें डॉक्टर से इसके बारे में बात करनी चाहिए। डॉक्टर सप्लीमेंट के द्वारा इस तत्व की कमी को पूरा कर सकते हैं।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !