गर्भवती महिलाऐं विटामिन ई सप्लीमेंट ले रहीं हैं तो हो जाए सावधान!

भाषा चयन करे

22nd June, 2017

Pregnancy aur vitamin E | प्रेग्नेंसी और विटामिन ई | Pregnancy and Vitamin E गर्भावस्था की शुरुआत के साथ ही गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर विटामिन सप्लीमेंट्स लेने की सलाह देते हैं। ताकि बच्चे के स्वास्थ्य पर किसी प्रकार का कोई प्रभाव न पड़ सके और उसमें किसी तरह के विकार उत्पन्न न हों। लेकिन हालिया अध्ययनों में विटामिन ई सप्लीमेंट को प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए फायदेमंद होने के बजाय और उल्टा नुकसानदायक पाया गया है। इससे न सिर्फ बच्चे के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ने की आशंका बढ़ जाती हैं, बल्कि इसके अलावा, प्लेसेंटा द्वारा बच्चे को पोषक तत्वों में दखलंदाजी, गर्भाशय की झिल्ली का फटना यहाँ तक कि बच्चे का गर्भ में ही मर जाना जैसी आशंकाएं भी बढ़ जाती हैं। खास तौर पर यदि सप्लीमेंट ज्यादा मात्रा में ले लिया गया हो।

Image Source

कहा जा सकता है कि विटामिन ई सप्लीमेंट पर हुए हालिया शोध, इसके फायदों के पक्ष में तो बिलकुल भी नहीं हैं। माना जा रहा है कि विटामिन ई सप्लीमेंट्स से, प्रेग्नेंट महिलाओं को फायदा  मिलने के बजाय उल्टा नुक्सान हो रहा है और प्रीक्लेम्पसिया और स्टिलबर्थ (मृत शिशु का जन्म) जैसी समस्याएं हो रही हैं। हालाँकि यह समस्या बेहद कम मात्रा में सेवन से नही हो रही हैं, लेकिन जिन महिलाओं के द्वारा ज्यादा मात्रा में इनका सेवन किया जा रहा है उनके लिए नतीजे ज्यादा बुरे हैं। ऐसे में बेहतर यही माना जा रहा है कि विटामिन ई की पूर्ती के लिए सप्लीमेंट्स पर निर्भर न रह कर इन्हें प्राकर्तिक तौर पर लिया जाना चाहिए।

जिस तरह से किसी विटामिन की कमी से समस्या हो सकती है, वहीँ दूसरी और किसी विटामिन की अधिकता भी शरीर की सामान्य कार्य प्रणाली में दखलंदाजी कर समस्या पैदा कर सकती है। यह बात खास तौर पर जिस विटामिन पर लागू हो रही है, वह है विटामिन ई।

विटामिन ई सप्लीमेंट्स से होने वाली समस्याएं-

  • विटामिन ई सप्लीमेंट लेने से पेट में दर्द की आशंका बढ़ जाती है,
  • इससे समय से पहले, भ्रूण झिल्ली के टूटने की आशकाएं बढ़ जाती हैं,
  • विटामिन चाहे अकेले लिया जाए या किसी अन्य सप्लीमेंट के साथ, इससे बच्चे और माँ के स्वास्थ्य पर किसी प्रकार का कोई सकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता,
  • इससे होने वाले बच्चे के स्वास्थ्य और उसके वजन पर असर पड़ने के साथ-साथ जन्म से पहले ही बच्चे की मृत्यु जैसी घटनाओं की आशंका भी बढ़ जाती है।

जहाँ पहले यह माना जा रहा था कि विटामिन ई सप्लीमेंट लेने से प्लेसेंटा का समय से पूर्व फटना रुक रहा है, वहीं दूसरी और यह बात भी साफ़ नहीं हो पाई थी कि ऐसा विटामिन ई की वजह से हो रहा है या फिर उसके साथ लिए जा रहे किसी अन्य एजेंट की वजह से।

यहाँ विटामिन ई सप्लीमेंट से होने वाले नुक्सान का मतलब यह नहीं है कि विटामिन ई से नुक्सान हो रहा है। क्योंकि प्राकर्तिक तौर पर लिया गया विटामिन ई महिला और उसके बच्चे के लिए नुकसानदायक नहीं है। बल्कि यह जरुरी है और इसी जरूरत को देखते हुए डॉक्टर विटामिन ई की गोलियां लेने की सलाह देते हैं, ताकि यदि वह आहार से इस विटामिन की कमी को पूरा नहीं कर पा रही हैं तो सप्लीमेंट्स के द्वारा उन्हें पूरा किया जा सके। लेकिन हालिया शोधों के अनुसार, गर्भवती महिलाओं को विटामिन ई प्राकर्तिक तौर पर लेना चाहिए न कि सप्लीमेंट्स के द्वारा।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !