कैसे पहचाने किसी व्यक्ति को स्ट्रोक हो गया है?

भाषा चयन करे

25th June, 2017

Stroke ko kaise pahchane? | स्ट्रोक को कैसे पहचाने? | How to recognize stroke?स्ट्रोक एक ऐसी समस्या है, जिसके लक्षण बेहद प्रत्यक्ष होते हैं और इन्हें आसानी से पहचान भी जा सकता है। स्ट्रोक होने पर जब मस्तिष्क का एक हिस्सा जो रक्त और ऑक्सीजन न मिल पाने के कारण मृत हो जाता है, उसके कारण शरीर का एक हिस्सा, चेहरे से लेकर पैर तक काम करना बंद कर देता है। इस स्थिति को स्ट्रोक पैरालिसिस  (पक्षाघात) कहा जाता है।

Image Source

जब किसी व्यक्ति को स्ट्रोक की समस्या होनी शुरू होती है, और मस्तिष्क का एक हिस्सा मृत होने लगता है, उसे तुरंत उपचार की जरूरत होती है। जितना समय स्ट्रोक को मिलता जाता है, वह बढ़ता जाता है और मस्तिष्क का हिस्सा मृत होता चला जाता है। जितना ज्यादा समय इसका उपचार शुरू होने में लगता है, मस्तिष्क का उतना ही हिस्सा मृत होता चला जाता है और शरीर उसी गति से काम करना बन्द करता चला जाता है। इसलिए जैसे ही किसी व्यक्ति में स्ट्रोक के लक्षण दिखाई दें, उसे तुरंत तत्काल चिकित्सा के लिए ले जाना चाहिए।  

इस तरह की स्थिति में, व्यक्ति को जितनी जल्दी उपचार मिलता है, उसके ठीक होने और पूरी तरह ठीक होने की संभावना भी उतनी ही ज्यादा होती है।

कुछ इस तरह पहचाने जा सकते हैं स्ट्रोक के लक्षण

  • सिर में असहनीय दर्द होना।
  • चेहरे और सिर का अचानक से सुन्न हो जाना और तेज झुनझुनी महसूस होने लगना।
  • कमज़ोरी और चक्कर महसूस होने लगाना।
  • चेहरे, हाथ, भुजा, टांग (शरीर के एक हिस्से) को हिला न पाना।
  • बोल न पाना।  
  • अचानक से कम दिखाई देने लगना या फिर बिलकुल न दिखना।
  • मतिभ्रम हो जाना और किसी की कही बात को समझ भी न पाना।
  • चल न पाना और खड़े न हो पाना  

इनमें से भी कुछ लक्षण, एक दम शुरुआती होते हैं, और यह स्थिति स्ट्रोक में ही पैदा होती है। इस तरह के लक्षण नजर आते ही रोगी को तुरंत एमरजेंसी ट्रीटमेंट की सख्त जरूरत होती है।

लक्षण

  • रोगी का मुँह एक तरफ़ फ़िरने लगना, या तिरछा हो जाना।
  • एक तरफ के हाथ में कमजोरी महसूस करना।
  • बोल न पाना

इस तरह की स्थिति में, यदि बिना समय गंवाएं रोगी को उचित इलाज मिल जाए तो उसकी जान बचाई जा सकती है।