हृदय रोगों से बचने के लिए कोलेस्ट्रॉल पर नज़र रखना भी जरुरी

भाषा चयन करे

24th June, 2017

Samany cholesterol kya hota hai? | सामान्य कोलेस्ट्रॉल क्या होता है? | What is a normal cholesterol levelकोलेस्ट्रॉल, हमारे शरीर के लिए बहुत महत्वपूर्ण यौगिक है। कोलेस्ट्रॉल मोम जैसा एक वसीय पदार्थ होता है और यह हमारे शरीर में नई कोशिकाओं (सेल्स) के बनने, तंत्रिकाओं की सुरक्षा, और हार्मोन्स का उत्पादन जैसे महत्वपूर्ण कार्य करता है। आम तौर पर, हमारा लिवर (जिगर) उतनी मात्रा में कोलेस्ट्रॉल का निर्माण कर लेता है, जितनी मात्रा में हमारे शरीर को जरुरत होती है। लेकिन, लिवर द्वारा बनाए कोलेस्ट्रॉल के अलावा, भी जब हम अधिक मात्रा में आहार से कोलेस्ट्रॉल लेने लगते हैं, तो इसकी मात्रा हमारे शरीर में बढ़ने लगती है।

Image Source

धीरे-धीरे शरीर में बढ़ती कोलेस्ट्रॉल की मात्रा जब हमारे रक्त में पहुंचती रहती है, तो वह रक्त वाहिकाओं में चिपकती रहती है और धीरे-धीरे रक्त वाहिका को ब्लॉक करने लगती है। जब रक्त वाहिका पूरी तरह रुक जाती है तो इससे हृदय समेत पूरे शरीर में रक्त प्रवाह में कमी आने लगती है। यदि कोलेस्ट्रॉल बढ़ता चला जाए और वह इतनी मात्रा में बढ़ जाए कि हृदय तक रक्त का प्रवाह ही रुक जाए तो व्यक्ति को हार्ट अटैक आ जाता है। इसलिए हमें शुरुआत से ही, कोलेस्ट्रॉल बनाने वाली चीजों को नपी तुली मात्रा में लेना चाहिए।  

हमारे शरीर में कितनी होनी चाहिए कोलेस्ट्रॉल की मात्रा?

  • सामान्य और स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल- हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा का सामान्य स्तर 200 mg/dL और इससे कम होना चाहिए और यह एक स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल है।
  • बॉर्डरलाइन कोलेस्ट्रॉल- यदि यह मात्रा 200 से ऊपर और 239 mg/dL तक हो तो इसे बॉर्डरलाइन कोलेस्ट्रॉल की श्रेणी में रखा जाता है।
  • हाई कोलेस्ट्रॉल- यदि कोलेस्ट्रॉल की मात्रा 239 mg/dL से ऊपर चली जाती है, यानी यदि यह 240 mg/dL भी है, तो समझ लीजिये कि आपका कोलेस्ट्रॉल सामान्य से बहुत आगे निकल चुका है।

कोलेस्ट्रॉल दो प्रकार का होता है-

  1. LDL (लो डेनसिटी लिपोप्रोटीन)-  LDL कोलेस्ट्रॉल यानी बुरा कोलेस्ट्रॉल (बैड कोलेस्ट्रॉल), यानी यह कोलेस्ट्रॉल हमारी रक्त वाहिकाओं और धमनियों में जम कर उन्हें ब्लॉक कर कोरोनरी धमनी रोग के ख़तरे को बढ़ा देता है।  
  2. HDL (हाई डेनसिटी लिपोप्रोटीन )- HDL कोलेस्ट्रॉल यानी अच्छा (गुड कोलेस्ट्रॉल), यह कोलेस्ट्रॉल बुरे कोलेस्ट्रॉल को धमनियों से वापिस लिवर में लेकर जाता है।

जब शरीर में बुरे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा ज्यादा और अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम हो जाती है, तो बुरा यानी बैड कोलेस्ट्रॉल धमनियों में जमने लगता है और हृदय रोगों का खतरा बढ़ा देता है।

हर एक व्यक्ति जो 20 वर्ष से ऊपर हो चुका है, कम से कम पांच साल में एक बार अपना कोलेस्ट्रॉल टेस्ट जिसे लिपोप्रोटीन पैनल कहा जाता है जरूर कराना चाहिए। इससे किसी भी व्यक्ति के कोलेस्ट्रॉल की वजह से हृदय रोगी होने की आशंका का पता चल जाता है। इस जाँच में, रक्त में लिपोप्रोटीन की मात्रा की जाँच की जाती है, जो रक्त में कोलेस्ट्रॉल को लेकर जाता है।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !