मलेरिया के लिए अनूठी औषधि है तुलसी

भाषा चयन करे

8th October, 2015

Malaria ke liye tulsi ke fayde | मलेरिया के लिए तुलसी के फ़ायदे | The benefits of basil for malariaभारत मेँ तुलसी को उसके महान गुणोँ के कारण एक सर्वश्रेष्ठ स्थान दिया है। भारतीय संस्कृति मेँ इसकी पूजा की जाती है। तुलसी का धार्मिक महत्व तो है ही लेकिन विज्ञान के दृष्टिकोण से भी तुलसी एक औषधि है। तुलसी को हजारोँ वर्षोँ से, विभिन्न रोगोँ के इलाज के लिए औषधि के रुप मेँ प्रयोग किया जाता है। आयुर्वेद मेँ तुलसी तथा उसके विभिन्न औषधीय गुणों का विश्लेषण किया गया है। इसे संजीवनी बूटी के समान ही माना जाता है।
भारत मेँ हर कोई अपने आंगन मेँ एक छोटा सा तुलसी का पौधा जरुर लगाता है। यह बड़ी बड़ी जटिल बिमारियोँ को दूर करने और उस की रोकथाम मेँ काफी सहायक है। तुलसी एक ऐसा पौधा है जो भारत के हर घर में आराम से उपलब्ध है।

Image Source

यहाँ आपको तुलसी द्वारा मलेरिया के उपचार के लिए कुछ ऐसे ही टिप्स बताये जा रहे है –

  • काली तुलसी 4-5 पत्ते, बबूल के 4 पत्ते, काली मिर्च 4 पीसी हुई तथा अजवाइन 1 ग्राम को एकसाथ पीसकर पानी के उबाल कर काढ़ा बना लें। इस काढ़े के ठंड़ा हो जाने पर बुखार चढ़ने से पहले पिलाने से बच्चों का मलेरिया का बुखार ठीक हो जाता है।
  • तुलसी के थोड़े पत्ते, 10 काली मिर्च और 2 चम्मच चीनी को एक कप पानी में उबालकर काढ़ा बना लें। इस काढ़े की 3 खुराक दिन में 3 बार लेने से मलेरिया बुखार में लाभ मिलता है।
  • तुलसी के पत्ते, 5 ग्राम करंज की गिरी, 10 दाने काली मिर्च तथा 5 ग्राम जीरे आदि को पीसकर छोटी-छोटी गोलियां बना लें। दिन में 3 बार इन गोलियों का सेवन करने से मलेरिया में लाभ होता है।
  • 10 ग्राम तुलसी के पत्ते और 7 कालीमिर्च को पानी में पीसकर सुबह और शाम लेते रहने से मलेरिया बुखार ठीक होता है।
    तुलसी की पत्तियाँ और 20 पिसी हुई कालीमिर्च को 2 कप पानी में डालकर उबाल लें। जब पानी चौथाई भाग रह जाये तब इसमें मिश्री मिलाकर ठंड़ा करके पीने से मलेरिया बुखार में लाभ होता है।
  • तुलसी के पत्ते और कालीमिर्च को एकसाथ मिलाकर सेवन करने से मलेरिया के बुखार में आराम मिलता है।
  • तुलसी के पत्तों को प्रतिदिन सेवन करने से मलेरिया नहीं होता है। यदि मलेरिया हो जाए तो बुखार उतरने पर सुबह के समय तुलसी के 15 पत्ते और 10 कालीमिर्च खाने से मलेरिया बुखार दुबारा नहीं होता है।
  • तुलसी के सेवन से सभी प्रकार के बुखारों में लाभ होता है। 20 तुलसी के पत्ते, 10 कालीमिर्च और 1 चम्मच शक्कर का काढ़ा मिलाकर सेवन करने से मलेरिया बुखार में लाभ होता है।
  • गुड़, कालीमिर्च तथा तुलसी का काढ़ा बनाकर नींबू के रस मिलाकर दिन में 3-3 घंटे के अन्तराल से गर्म-गर्म पीना चाहिए। इसके बाद रोगी को कम्बल ओढ़ा देना चाहिए। ऐसा करने से मलेरिया का बुखार दूर हो जाता है।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !