अंजनहारी और इसके लक्षण

भाषा चयन करे

9th October, 2015

Anjanhari kyun nikalti hai? |अंजनहारी क्यों निकलती है? | Why Stye is Cused?अंजनहारी में आंखों पलकों के किनारे पर निकलने वाली छोटी फुंसी को कहा जाता है। यह फुंसी ज्यादातर एक ही आँख पर एक बार में होती है, लेकिन कभी-कभी यह निरंतर तौर पर निकलती ही रहती है और कई बार तो यह दोनों आँखों पर एक साथ भी हो सकती है।
आमतौर पर ज्यादा, कष्टकारी न होते हुए भी, कभी-कभी यह काफी बड़ी होकर मवाद (पस) से भर जाती है। इसके बाद इसमें बहुत दर्द होता है।

Image Source

अंजनहारी को ‘बिलनी’ या ‘गुहेरी’ (शूकरशाला या स्टाई) के नाम से भी जाना जाता है। इस रोग का कारण स्टाफीलोकोकस बैक्टीरिया माना जाता है, जो आँखों को संक्रमित कर इस रोग को जन्म देता है।

अंजनहारी के लक्षण

  • अंजनहारी, आँखों की पलकों के ऊपर लाल या गुलाबी रंग की फुंसी हो जाना। जो एक या दोनों आँखों पर भी हो सकती है।
  • फुंसी में खुजली, या कभी-कभी जलन भी होना।
  • फुंसी का धीरे-धीरे बढ़ना और पीले रंग का होते चले जाना (पकने के कारण)
  • पलकों में दर्द होना।
  • अंजनहारी जब पक जाती है, और पक कर फूटती है तो उसमें से मवाद निकलनी शुरू हो जाती है।
  • वैसे तो अंजनहारी जीवन में कभी न कभी हर किसी को निकलती ही है, लेकिन यदि किसी को यह बार-बार निरंतर रूप से निकल रही है, तो उसे इसका इलाज कराना चाहिए।

Master Blood Check-up covering 61 tests like Iron, Vitamn D, Thyroid Function, Complete Hemogram, Renal Profile, Lipid & Cholestrol Profile just in 299 RS click now to avail offer



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !