अंजनहारी में लाभदायक है त्रिफला

भाषा चयन करे

12th October, 2015

क्यों त्रिफला अंजनहारी में लाभदायक है? । Kyun Trifala Anjanhari mein labhdayak hai? | Why it is useful to take Trifala for Stye? अंजनहारी, जो कभी-कभी बहुत पीड़ादायक होती है, यदि हम इसके लिए कुछ घरेलू उपचारों का प्रयोग करें तो हमें इस से जल्दी निजात मिल सकती है। इसकी इन्हीं घरेलू औषधियों में से एक औषधि है त्रिफला।

Image Source

क्योंकि अंजनहारी का एक कारण कब्ज भी माना जाता है, इसीलिए त्रिफला इन दोनों ही परेशानियों से निजात देने में फायदेमंद होता है।

क्या करें?

रात को त्रिफले के चूर्ण की कुछ मात्रा, पानी में भिगो कर रख दें। सुबह इस घोल को सूती कपड़ें में से छानकर इस से आँखों को धोएं। इस से अंजनहारी में बहुत जल्दी आराम मिल जाता है।

फयदेमदं है त्रिफले का सेवन

सिर्फ त्रिफले के पानी से आँखे धोना ही नहीं बल्कि इसका सेवन भी, अंजनहारी में लाभप्रद होता है। रोजाना आधा चम्मच त्रिफले के चूर्ण का सेवन गुनगुने पानी के साथ सोने कर उठने के बाद करें। इस से न सिर्फ आपका पेट साफ होगा, बल्कि इसके साथ-साथ अन्य बिमारियां जैसे कब्ज और पेट से जुड़ी बिमारियां भी साफ हो जाएंगी।

अंजनहारी के कारणों में, पेट की खराबी और कब्ज भी शामिल है और त्रिफला इन दोनों ही परेशानियों का रामबाण इलाज है।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !