मलेरिया में मिर्च के फायदे

भाषा चयन करे

12th October, 2015

Malaria ke Ilaj mein Mirch ke kya fayade hain? । मलेरिया के इलाज में मिर्च के क्या फायदे हैं? | What are the Benefits of Chilly for Treating Malaria?अब तक मिर्च को केवल खाने को स्वादिष्ट बनाने मेँ ही प्रयोग किया जाता था। लेकिन क्या आप जानते हैँ मिर्च के क्या फायदे हैँ? इसका उपयोग कई बिमारियों के इलाज में भी किया जाता है। क्योंकि यह बहुत आसानी से मिल जाता है इसलिए इसका उपयोग भी काफी आसान है। इसमेँ बहुत से औषधीय गुण होते हैँ जिससे अनेक बीमारियोँ को ठीक करने मेँ इसका प्रयोग किया जाता है। यह भले ही खाने मेँ तीख़ी लगती है लेकिन इसके फायदे अनेक है। यहाँ हम आपको मिर्च द्वारा मलेरिया के उपचार के बारे में जानकारी देंगें –

Image Source
  • 3 लालमिर्च को डंठल को पानी के साथ पीसकर बायें हाथ की अनामिका अंगुली में लपेटकर, मलमल के कपड़े से बांध लें। कपड़े पर पानी डालते रहें ताकि गीला रहें। इस विधि को बुखार आने से कम से कम 2 घण्टे पहले करने से मलेरिया का बुखार नहीं आता है।
  • कालीमिर्च का चूर्ण, तुलसी के रस और शहद तीनों को मिलाकर पीने से मलेरिया का बुखार दूर हो जाता है।
  • 3 ग्राम कालीमिर्च, 3 ग्राम करंज की मींग (गिरी) और 3 ग्राम संहालू के हरे पत्तों को पीसकर छोटी-छोटी गोलियां बना लें। बुखार आने से पहले से यह 1-1 गोली ताजे पानी से 4-4 घण्टे बाद लेने से बुखार में लाभ मिलता है।
  • कालीमिर्च को तुलसी के पत्तों के रस में मिलाकर 2 से 3 मिनट तक उबालें और फिर सुखा लें। फिर उसकी मटर के बराबर गोलियां बना लें। बुखार आने के 4 घण्टे पहले हर 1-1 घण्टे बाद यह 4 गोलियां खाने से बुखार नहीं चढ़ता है।
  • 7 कालीमिर्च और प्याज से प्राप्त 50 मिलीलीटर रस को सुबह और शाम लेने से मलेरिया के बुखार में लाभ होता है।
  • 1 हरी मिर्च के बीज को निकालकर बुखार आने के 2 घण्टे पहले अंगूठे में पहना कर बांध दें। इसी प्रकार इसे 2 से 3 बार बांधने से मलेरिया बुखार आना बन्द हो जाता हैं। हरी मिर्च बांधने से जलन होती है। ध्यान रहें कि जितनी देर तक सहन हों तो बांधे रखें फिर खोल दें।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !