छोटी माता होने पर जरुरी है सही देख-भाल  

भाषा चयन करे

31st May, 2017

Choti mata ya Chechak ke liye gharelu Aushadhiya | छोटी माता या चेचक के लिए घरेलू औषधियां | Home Remedies for Chickenpox or Chhoti Mataचेचक या छोटी माता के रोगी की उचित देख-भाल बहुत जरुरी होती है। इस समस्या में रोगी को बहुत परेशानी होती है। ख़ास तौर पर, उसके शरीर पर हुए छालों की वजह से। छोटी माता में, रोगी को ठीक होने तक सहज रखना बेहद जरूरी होता है, नहीं तो यह बिमारी रोगी व्यक्ति को बहुत परेशान करती है। इस दौरान, रोगी के खान-पान का ध्यान रखने के अलावा, कुछ सावधानियां भी हैं, जो बरती जानी चाहियें।

Image Source

सावधानियां और देखभाल

  • रोगी को खूब सारे तरल का सेवन कराएं यदि बच्चा ज्यादा छोटा है तो उसे थोड़ी-थोड़ी देर में स्तनपान कराएं
  • रोगी के नाखूनों का ध्यान रखें वह बड़े और गंदे नहीं होने चाहियें, साथ ही रोगी को खुजलाने न दें।
  • रोगी को ज्यादा खुजली और चुभन न हो इसके लिए उसकी त्वचा को ठंडी रखें। उसे ज्यादा गर्म पानी से न नहलाएं
  • अपने डॉक्टर से किसी ऐसे लोशन के बारे में पूछ लें जिसे त्वचा पर लगाने पर उसे ठंडक मिले
  • रोगी के कपड़ों को अलग रखें और उन्हें अन्य लोगों के कपड़ो के साथ ना धोएं और न ही रखें
  • रोगी को अन्य लोगों से दूर रखें ताकि यह संक्रमण किसी अन्य व्यक्ति तक न पहुंचे

छोटी माता के लिए घरेलू औषधियां और आहार

  • नीम- चेचक में यदि घरेलू और प्रभावी औषधि के रूप में किसी चीज का नाम याद आता है, तो वह है नीम। नीम से बेहतर औषधि इस बिमारी के लिए शायद ही हो। माता निकलने पर नीम को रोगी के कमरे में और उसके बिस्तर पर रखें। उसे नीम के पानी से स्नान कराएं। पानी गर्म या गुनगुना होने के बजाय सामान्य तापमान पर होना चाहिए। नीम को रोगी के शरीर पर पेस्ट बना कर भी लगा सकते हैं।
  • ख़मीरा- चेचक के रोगियों के लिए खमीरा बहुत फायदेमंद होता है, उसे थोड़ी-थोड़ी देर में खमीरा चटाते रहे
  • आसानी से पचने वाला आहार- रोगी को आसानी से पचने वाला आहार, जैसे दलिया, खिचड़ी का सेवन कराएं
  • तरल- उसे खूब सारा तरल पीने के लिए दें, थोड़ी-थोड़ी देर में पानी की एक-एक घूँट पिलाते रहें
  • तुलसी- रोगी को खाली पेट तुलसी के पत्ते चबाने के लिए दें, वह अन्य तरल में भी उसे तुलसी के पत्ते दिए जा सकते हैं
  • जूस- जूस बनाएं तो उसमें नीम की कुछ कोमल पत्तियां भी मिला दें। इससे रोगी बहुत जल्दी ठीक हो जाएगा
  • शहद- रोगी को शहद चाटने के लिए दें, इससे उसकी रोगों से लड़ने की क्षमता में सुधार होता है
  • गाजर और हरा धनिया- माता में हरा धनिया और गाजर भी बेहद फायदेमंद चीजें हैं। रोगी को गाजर और धनियां का सूप बना कर दें गाजर और हरे धनियां में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स इस रोग के विषाणुओं से छुटकारा पाने में शरीर की मदद करते हैं।

 



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !