चिकनगुनिया और इसके लक्षण

भाषा चयन करे

31st May, 2017

Chikungunya ke lakshan kya hein? | चिकनगुनिया के लक्षण क्या हैं? | What are the Symptoms of Chikungunya?चिकनगुनिया भी डेंगू की ही तरह मच्छरों के द्वारा फैलाया जाने वाला एक संक्रमण है, जो बुखार और गंभीर जोड़ों के दर्द के रूप में सामने आता है। यह संक्रमण एडीज एजिप्टी और एलबोपिकटस मच्छरों द्वारा फैलाया जाता है। जब यह मच्छर किसी व्यक्ति को काटतें हैं तो उनके रक्त में यह वायरस भी छोड़ देते हैं। यह एक संक्रामक बिमारी नहीं है, यानी यह एक व्यक्ति से दूसरे को नहीं होती। यह सिर्फ संक्रमित व्यक्ति को किसी मच्छर के काटे जाने के बाद जब वह दूसरे व्यक्ति को काटते हैं तो इस रोग के विषाणु उसके शरीर में भी प्रवेश कर जाते हैं।

Image

यह बिमारी घातक या जानलेवा तो नहीं होती, लेकिन अनदेखी और लक्षणों का सही उपचार न मिलने  पर रोगी को शारीरिक रूप से कमजोर कर देती है। चिकनगुनिया ज्यादा से ज्यादा एक हफ्ते तक शरीर में रह सकती है, लेकिन इससे होने वाला जोड़ों एक महीना रोगी को परेशान कर सकता है।

चिकनगुनिया के लक्षण

एक बार किसी व्यक्ति को मच्छर द्वारा काटे जाने के बाद इस बिमारी के लक्षण लगभग दिन से सात दिनों के भीतर  नजर आने शुरू होते हैं। इस बिमारी की शुरुआत बुखार और जोड़ों में दर्द से होती है और यही इसकी सबसे मुख्य पहचान है।

इनके अलावा, इस बिमारी के लक्षण कुछ इस तरह से नज़र आते हैं-

  • व्यक्ति को अचानक से तेज़ बुखार आ जाता है
  • भूख लगनी बन्द हो जाती है,
  • रोगी के जोड़ों में सूजन आ जाती है और उनमें बहुत तेज दर्द होता है
  • सिर में तेज़ दर्द होता है
  • शरीर पर निशान (लाल धब्बे) बनने लगते हैं
  • मांशपेशियों में तेज़ दर्द होने लगता है
  • कई बार तो किसी-किसी रोगी को नाक या मसूड़ों से खून भी निकलने लगता है
  • रोगी प्रकाश को बरदास्त नहीं कर पाता
  • कुछ लोगों को उल्टी भी हो जाती है

चिकनगुनिया से बचाव के लिए अभी तक चिकित्सा जगत में कोई टिका उपलब्ध नहीं है और न ही इसके लिए अलग से कोई उपचार उपलब्ध है। इस बिमारी के होने पर रोगी को बुखार और बदन दर्द में दी जाने वाली दवाई जैसे ब्रूफेन और एसिटामिनोफेन दी जाती है, ताकि रोगी के ठीक होने तक उसे इससे होने वाली परेशानियों में आराम मिल सके।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !