अग्नाश्य और इसके कार्य

भाषा चयन करे

26th June, 2017

Aganshya kya hai? | अग्नाश्य क्या है? | What is Agnashya?अग्नाश्य (पेनक्रियाज), जिसके बारे में लोगों को ज्यादातर जानकारी नहीं होती, पेट में लिवर से जुड़ा एक ऐसा पीले रंग का रबड़ जैसा अंग होता है, जो पाचन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और यह आहार को पचाने के लिए पाचक जूस का निर्माण करता है। इसका एक और महत्वपूर्ण कार्य होता है रक्त शर्करा यानी ब्लड शुगर को नियंत्रित करना। पेनक्रियाज, पेट और स्पाइन के बीच होता है और लिवर से जुड़ा होता है। यदि आप अपने अग्नाश्य का आकार जानना चाहते हैं, तो एक काम कीजिये, अपने सीधे हाथ का अंगूठा और छोटी ऊँगली एक साथ आपस में मिलाइये और बाकि तीनों उंगलियों को एक साथ मिलाकर सीधा रखिये। अब अपने हाथ को पेट के बीचो बीच, पसलियों के ठीक नीचे लेकर जाइये और अपने हाथ को उस स्थान पर रखने की कोशिश करें। आपका पेनक्रियाज भी लगभग आपके हाथ के इसी आकार का और थोड़ा बाएं तरफ स्थित होता है।

Image Source

क्या और कैसे काम करता है अग्नाश्य?

पेनक्रियाज यानी अग्नाश्य दो काम करता है। एक तो वह हम जो भी खाते हैं, उसे ऊर्जा के रूप में बदल देता है ताकि हमारी कोशिकाएं उसे प्रयोग कर सकें, जिसे एक्सोक्राइन कहा जाता है और दूसरा यह रक्त शर्करा को नियंत्रित करता है, जिसे एंडोक्राइन कहा जाता है। दरअसल अग्नाश् कुछ ऐसे एन्जाइम्स और हार्मोन्स का निर्माण करता है, जो हमारे आहार को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ कर उन्हें ऊर्जा में बदल देते हैं। वहीँ शरीर में, रक्त शर्करा (ब्लड शुगर) को नियंत्रित करने के लिए यह इन्सुलिन का निर्माण करता है।

एक स्वस्थ अग्नाश्य, अपना कार्य अच्छे से करता है और उसे पता होता है कि उसे कब और कितनी मात्रा में किस हार्मोन का निर्माण करना है और यह उस आहार पर निर्भर करता है, जिसे हम खाते हैं।

किस-किस एंजाइम और हॉर्मोन्स का निर्माण करता है अग्नाश्य?

  • क्लोम-रस या ट्रिप्सिन (Trypsin) और काइमोट्रिप्सिन का निर्माण प्रोटीन को पचाने के लिए किया जाता है,
  • एमिलेज (Amylase)  का निर्माण कार्बोहाइड्रेट को तोड़ने के लिए किया जाता है,
  • लिपासे (Lipase) का निर्माण फैट को फैटी एसिड और कोलेस्ट्रॉल में तोड़ने के लिए किया  जाता है,
  • इंसुलिन और ग्लूकागन का निर्माण ब्लड शुगर को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है।

यदि किसी व्यक्ति अग्नाश्य ठीक प्रकार से कार्य न कर पाए तो उसे डायबिटीज और कमजोरी की समस्या होने लगती है। क्योंकि अग्नाश्य द्वारा बनाए गए एन्जाइम्स और इन्सुलिन के सही मात्रा में न बन पाने के कारण एक तो शरीर को पोषक तत्व नहीं मिल पाएंगे और दूसरा शरीर में ग्लूकोज की मात्रा नियंत्रित नहीं हो पाएगी।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !