क्या और क्यों होता है पैन्क्रियेटाइटिस या अग्नाशयशोथ?

भाषा चयन करे

26th June, 2017

Aagnashya Soth kyun hota hai? | अग्नाश्य शोथ क्यों होता है? | What are the Causes of Agnashya Shoth?अग्नाश्य पेट के ऊपरी हिस्से और पसलियों के ठीक नीचे थोड़ी बांयी और स्थित एक ग्रंथि है, जो छोटी आंत के बिलकुल नजदीक होती है। अग्नाश्य हमारे शरीर में दो महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां निभाता है, एक तो आहार को पचाने के लिए पाचक जूस का निर्माण करना और दूसरा रक्त शर्करा (ब्लड शुगर) को नियंत्रित करने के लिए इन्सुलिन का निर्माण करना।

Image Source

जहाँ एक और अग्नाश्य पाचक रस का निर्माण कर उसे छोटी आंत में भेजता है, वहीँ दूसरी और इन्सुलिन का निर्माण कर उसे रक्त में भेज देता है और यहाँ से यह दोनों तत्व अपना-अपना काम शुरू करते हैं।
यदि अग्नाश्य यह एंजाइम नहीं बना पाता, यानी उसमें किसी तरह की समस्या पनप चुकी है। अग्नाश्य की बिमारी को ‘अग्नाशयकोप’ (पैन्क्रियेटाइटिस) के नाम से जाना जाता है।  

अग्नाशयकोप या पैन्क्रियेटाइटिस में, रोगी के अग्नाश्य में सूजन आ जाती है। दरअसल होता यह है कि जब हम कुछ भी खाते हैं, और अग्नाश्य उसे पचाने के लिए एजनाइम्स या पाचक जूस का निर्माण करता है, तो यह एंजाइम छोटी आंत में पहुंचने के बाद ही सक्रीय होते हैं। लेकिन यदि किसी वजह से अग्नाश्य में सूजन आ जाए तो यह छोटी आंत में पहुंचने से पहले ही अग्नाश्य में ही सक्रीय जाते हैं और अग्नाश्य पर आक्रमण करना शुरू कर देते हैं, इससे अग्नाश्य प्रभावित होता है और उस पर सूजन आ जाती है।

पैन्क्रियेटाइटिस दो प्रकार का होता है

क्रोनिक- यह प्रक्रिया बेहद धीमी होती है और शुरुआत में इसकी जानकारी मरीज को नहीं मिल पाती। क्रोनिक पैन्क्रियेटाइटिस जहाँ एक और धीरे-धीरे पनपती है और लोगों को इसका पता भी काफी बाद में चल पाता है, और एक बार होने के बाद रोगी को हमेशा इसका उपचार जारी रखना पड़ता है।

एक्यूट- इस प्रकार पैन्क्रियेटाइटिस में रोगी के  अग्नाश्य में अचानक से सूजन आ जाती है और  इसके लक्षण भी साथ के साथ दिखने लगते हैं।  यह समस्या जहाँ तेजी से पनपनी है, वहीँ यह उपचार के बाद तेजी से ठीक भी हो जाती है। लेकिन वहीं दूसरी और कभी-कभी यदि समस्या काबू में आए तो घातक भी हो सकती है।

पैन्क्रियेटाइटिस के रोगी को दो तरह की समस्याएं हो सकती हैं। एक तो रक्त में शर्करा का स्तर बढ़ना और दूसरा शरीर में आहार का पाचन ने होने से अपच, उल्टी, मतली, पेट में दर्द और गंभीर कमजोरी हो जाना।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !