अग्नाशय प्रत्यारोपण के बाद आने वाली परेशानियां

भाषा चयन करे

9th July, 2017

Master Blood Check-up covering 61 tests like Iron, Vitamn D, Thyroid Function, Complete Hemogram, Renal Profile, Lipid & Cholestrol Profile just in 299 RS click now to avail offer

Kya Agnashy pratya ropan surakshit hai? | क्या अग्नाश्य प्रत्यारोपण सुरक्षित है? | is pancreas transplant safe?

डायबिटीज के मरीजों, या फिर जिनका अग्नाशय अन्य किसी कारण से बिलकुल खराब हो चुका हो और  वह अपना कार्य करने में असमर्थ हो चुका हो, तो इसका एकमात्र हल रह जाता है, अग्नाशय प्रत्यारोपण। भले ही एक समय पर व्यक्ति की जान बचाने के लिए अग्नाशय प्रत्यारोपण, जरुरी हो जाता हो, लेकिन इस सर्जरी के बाद व्यक्ति को बहुत सी समस्याएं होने की आशंका बनी रहती है।

Image Source

अग्नाशय प्रत्यारोपण की सबसे आम समस्या जो होती है, वह है रक्त के थक्के बनना। रक्त के थक्के शरीर में अन्य कई घातक समस्याओं जैसे हृदय घात,  पक्षाघात (पैरालिसिस) और स्ट्रोक को दे सकता है। लेकिन इसके लिए भी डॉक्टर मरीज को दवाएं देते हैं, ताकि इस तरह की समस्या न पनपे। चलिए जानते हैं, अग्नाशय प्रत्यारोपण के बाद व्यक्ति को क्या-क्या समस्याएं हो सकती हैं।

Master Blood Check-up covering 61 tests like Iron, Vitamn D, Thyroid Function, Complete Hemogram, Renal Profile, Lipid & Cholestrol Profile just in 299 RS click now to avail offer

अग्नाशय प्रत्यारोपण के बाद आने वाली समस्याएं-

अग्न्याशय प्रत्यारोपण सर्जरी से कुछ जोखिम हैं जो सामने आ सकतें हैं।

जैसे:

  • खून के थक्के बनना,
  • रक्त स्राव शुरू होना,
  • सर्जरी के स्थान पर संक्रमण फ़ैल जाना,
  • रक्त में अतिरिक्त शर्करा (हाइपरग्लाईसीमिया) हो जाना,
  • यूरिनरी जटिलताएं, जैसे; स्त्राव या मूत्रमार्ग का संक्रमण ।
  • लगाए गए अग्न्याशय का शरीर द्वारा स्वीकार न किया जाना,
  • या फिर नए अग्नाशय कर नए शरीर में कार्य न कर पाना,

सिर्फ इतना ही नहीं, शरीर नए अग्नाशय को स्वीकार कर ले इसके लिए जो दवाएं दी जाती हैं, वह भी शरीर को प्रभावित करती हैं।

रोगी को दी गई एंटी रिजेक्शन दवाओं के दुष्प्रभाव-

  • हड्डियों का कमजोर और पतला होना
  • कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाना,
  • उच्च रक्त चाप,
  • त्वचा की संवेदनशीलता
  • शरीर फूल जाना
  • वजन बढ़ जाना,
  • मसूड़ों में सूजन
  • मुँहासे
  • बालों का अत्यधिक विकास

एंटी रिजेक्शन दवाओं रोगी को इसलिए दी जाती हैं, ताकि उसके शरीर की रोग प्रति रोधक क्षमता उसके ने अग्नाशय को बाहरी तत्व समझ कर उस पर आक्रमण न कर दे। यह दवाएं रोगी की रोग प्रति रोधक क्षमता को दबा देती हैं। इससे रोगी के शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है और रोगी के शरीर  में संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाता है।

Master Blood Check-up covering 61 tests like Iron, Vitamn D, Thyroid Function, Complete Hemogram, Renal Profile, Lipid & Cholestrol Profile just in 299 RS click now to avail offer



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !