टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम कारक

भाषा चयन करे

23rd March, 2016

Untitled design (4)कुछ ऐसी स्थितियां जिनमें डायबिटीज होने की संभावनाएं और भी बढ़ जाती हैं:

यदि आपमें नीचें दिए गए निम्नलिखित जोखिम कारक मौजूद हैं, तो आपमें डायबिटीज होने की सम्भावना और भी बढ़ जाती है।

  • अगर आपके परिवार में डायबिटीज काफी पहले से चली आ रही हो। यानी यदि आपके परिवार के सदस्य जैसे: माता-पिता, भाई या बहन में से किसी को पहले से डायबिटीज हो तो आपको भी इसके होने की संभावना बढ़ जाती है। साथ ही अगर आपका खान-पान स्वस्थ है और आप लगातार व्यायाम भी करते हैं तो आप इसके खतरे को काफी कम कर सकते हैं।
  • यदि आपको प्रीडायबिटीज है, तो इसका सीधा सा अर्थ है कि आपमें रक्तशर्करा का स्तर ज्यादा तो है लेकिन इतना ज्यादा नहीं है कि आपको यह बीमारी हो ही जायें। इसको कम करने का सबसे सही तरीका है कि आप ज्यादा शारीरिक गतिविधि करें और यदि वजन ज्यादा है तो उसे भी कम करें। इस स्थिति में आपके डॉक्टर, आपको मेटफार्मिन नामक दवा लेने के लिए भी बोल सकते हैं।
  • यदि आप शारीरिक रूप से सक्रिय नहीं रहते हैं, तो यह आपमें मधुमेह की संभावना बढ़ा सकता है और इसके लिए जरुरी है कि आप अपनी इस आदत से छुटकारा पा लें। लेकिन पहले आप अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले ताकि वह आपको यह बता सके कि आपके लिए कौन सा व्यायाम सुरक्षित है।
  • अगर आपका वजन ज्यादा है, विशेष रूप से कमर के आसपास। हालाँकि यह जरूरी नहीं है कि जिसे टाइप 2 डायबिटीज है, उसका वजन ज्यादा हो ही, लेकिन अधिक वजन डायबिटीज के जोखिम को काफी हद तक बढ़ा देता हैं। विशेष रूप से पेट पर जमा फैट, डायबिटीज के जोखिम को बढ़ाता हैं।
  • यदि आपको हृदय रोग हो।
  • यदि आपको हाई ब्लड प्रेशर हो।
  • हो सकता है कि आपका ‘अच्छा कोलेस्ट्रॉल’ का स्तर कम हो, लेकिन यदि यह 35 mg/dL (milligrams per deciliter) से भी कम, तो इसका स्तर समान्य से बहुत कम है, और इस से आपको टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा हो सकता है।
  • यदि आपमें ट्राइग्लिसराइड का स्तर 250 mg/dL से भी अधिक हो तो भी आपमें टाइप 2 डायबिटीज के शिकार होने का ख़तरा बढ़ जाता है।
  • अगर गर्भावस्था के दौरान (Gestational diabetes), डायबिटीज हुई हो या बेबी का वजन 9 पौंड से ज्यादा हो तो आपको टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा ज्यादा हो सकता है।
  • अगर किसी महिला को PCOS (पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम) हो तो टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा हो सकता है।
  • उम्र बढ़ने के साथ-साथ टाइप 2 डायबिटीज होने का ख़तरा और भी बढ़ जाता है। खासकर यदि आपकी उम्र 45 वर्ष से ज्यादा हो। लेकिन साथ ही उम्र बढ़ने के साथ मधुमेह का होना एक सामान्य बात नहीं है।

जरुरी है कि आप अपने डॉक्टर से मिलकर मधुमेह के होने कारणों के बारे में जानें। यदि आपको इसके कारणों की जानकारी रहेगी तो आप अपने स्वास्थ्य के लिए कुछ ऐसे नियम बना सकते हैं जिनसे आपक डायबिटीज को नियंत्रित रख सकेंगे।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !