क्या है ओरल ग्लूकोज़ टॉलरेंस टेस्ट?

भाषा चयन करे

20th April, 2016

Oral Glucose Tolerance Test ka Mahataw | ओरल ग्लूकोज़ टॉलरेंस टेस्ट का महत्व | Importance of Oral Glucose Tolerance Test हालाँकि डॉक्टर्स ओरल ग्लूकोज़ टॉलरेंस टेस्ट को नियमित तौर पर प्रयोग नहीं करते, लेकिन इसे टाइप 2 डायबिटीज के लिए एक बेहतरीन टेस्ट माना जाता है। इसे जेस्टेशनल डायबिटीज की जाँच के लिए खास तौर पर प्रयोग किया जाता है।

इस टेस्ट के लिए आपको कम से कम 8 घंटे के तक उपवास रखना पड़ता है। लेकिन ध्यान रहें कि यह उपवास 16 घंटे से ज्यादा नहीं होना चाहिए। यह 8 घंटे के बाद होता है। इसके बाद जब आप डॉक्टर के पास जातें हैं, तो वह आपका फास्टिंग ब्लड शुगर टेस्ट लेगा। इसके बाद आपको 75 ग्राम ग्लूकोज (गर्भवती महिलाओं को 100 ग्राम) पीने के लिए दिया जाएगा। इसके बाद डॉक्टर चार बार आपके रक्त का नमूना लेगा और आपके खून की जाँच करेगा।

हालाँकि, प्रसूति-विज्ञानी अलग-अलग तरीकों से टेस्ट कर सकता है लेकिन यहाँ जो तरीका दिया गया है वह एक मानक तरीका है।

कितनी विश्वसनीय है यह जाँच?

ओरल ग्लूकोज़ टॉलरेंस टेस्ट की सटीक जाँच के लिए, आपका पूरी तरह से स्वस्थ्य होना जरुरी है। इसके लिए आपको कोई और बीमारी नहीं होनी चाहिए। यहाँ तक कि ठंड भी नहीं। इसके अलावा आपने कोई ऐसी दवाई न ली हो जिसके कारण आपकी जाँच पर प्रभाव पड़े।

आपको इस से पहले अपने कार्बोहाइड्रेट की भी जाँच करनी पड़ेगी। जाँच से पहले आपको यह भी ध्यान रखना होता है कि पिछले तीन दिनों के भीतर, आपने 150 से लेकर 200 ग्राम तक कार्बोहाइड्रेट नहीं लेना है। जाँच वाले दिन सुबह न ही तो कॉफी पियें और न ही धूम्रपान करें।

ओरल ग्लूकोज़ टॉलरेंस टेस्ट का नतीजा

ओरल ग्लूकोज़ टॉलरेंस टेस्ट के द्वारा, पिछले तीन घंटे के ब्लड शुगर के लेवल की जाँच की जाती है। कुछ डॉक्टर्स इसकी जाँच की शुरुआत एक ब्लड सैम्पल से शुरू करते हैं, और बाकी के दो सैम्पल ग्लूकोज पीने के दो घंटे बाद लेते हैं।

यदि आपको डायबिटीज नहीं है, तो आपका ब्लड शुगर जैसे ही बढ़ेगा वह खुद ब खुद जल्दी ही नीचे भी चला जाएगा। यदि आपको डायबिटीज है, तो आपका लेवल बढ़ेगा लेकिन वह फिर सिर्फ तेजी से बढ़ता ही जाएगा और उतनी तेजी से नीचे नहीं आएगा।

यदि आपकी जाँच में आता है कि आपका स्तर सामान्य और डायबिटिक के बीच में है, तो आपको इम्पेयर्ड ग्लूकोज टॉलरेंस (IGT) है। IGT वाले लोगों में डायबिटीज नहीं होती।

यदि आपका ब्लड शुगर लेवल ज्यादा है तो, व्यायाम करने और वजन घटाने से आपका ब्लड शुगर लेवल सामान्य हो जाएगा। वहीं इसके लिए कुछ डॉक्टर हैं जो, मेटफार्मिन (Glucophage) दवाई की सलाह भी देते हैं।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !