एंटीन्यूक्लियर एंटीबॉडी टेस्ट – क्यों जरुरी है जाँच?

भाषा चयन करे

24th December, 2015

Antinuclear Antibody Test ka mahtaw | एंटीन्यूक्लियर एंटीबॉडी टेस्ट का महत्व | Importance of Antinuclear Antibody Testयदि किसी व्यक्ति को प्रतिरक्षा प्रणाली से सम्बंधित कोई भी बीमारी, जैसे, स्व-प्रतिरक्षित रोग (ऑटोइम्म्यून डिजीज) हो, तो इसके लिए एंटीन्यूक्लियर एंटीबॉडी (ANA) टेस्ट किया जाता है।  ऑटोइम्म्यून डिजीज एक ऐसी बीमारी है, जिसमें, शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली, अपनी ही कोशिकाओं पर आक्रमण कर उन्हें नष्ट करना शुरू कर देती हैं।

Image Source

यदि किसी व्यक्ति में ऑटोइम्म्यून डिजीज के कुछ सामान्य लक्षण दिखाई दें जैसे-जोड़ों में दर्द, सूजन, पेट में दर्द, भूख न लगना, वजन कम होना इत्यादि दिख रहे हैं, तो डॉक्टर इसकी पुष्टि करने के लिए एंटीन्यूक्लियर एंटीबॉडी टेस्ट करवा सकते हैं। यह टेस्ट, ऑटोइम्म्यून डिजीज की पहचान करने के लिए ही किया जाता है।

कुछ ऑटोइम्म्यून डिजीज के नाम यहाँ बताए जा रहे हैं, यह निम्नलिखित हैं-

  • सिस्टमिक लुपस एरिथेमाटोसस (Systemic Lupus Erythematosus)
  • पॉलीमायोसिटिस (Polymyositis)
  • डर्मेटोमायोसिटिस (Dermatomyositis)  
  • स्जोग्रेन सिंड्रोम (Sjögren’s Syndrome)
  • रुमेटॉइड आर्थराइटिस (Rheumatoid Arthritis)
  • स्क्लेरोडर्मा (Scleroderma)
  • थायराइड रोग (Thyroid Disease)
  • प्राइमरी बिलियरी सिरोसिस (Primary Biliary Cirrhosis)
  • ऑटोइम्म्यून  हेपेटाइटिस (Autoimmune Hepatitis)
  • मल्टीपल  स्क्लेरोसिस (Multiple Sclerosis)
  • आइडिओपैथिक थ्रोम्बोसायटोपैनिक परपूरा (Idiopathic Thrombocytopaenic Purpura)
  • मिश्रित संयोजी ऊतक रोग (MCTD)
  • टाइप 1 मधुमेह (Type 1 Diabetes Mellitus)

जब आप डॉक्टर के पास जाते हैं, तो वह सबसे पहले डॉक्टर आपकी शारीरिक जाँच करते हैं और फिर लक्षणों के आधार पर आपको, एंटीन्यूक्लियर एंटीबॉडी (ANA) टेस्ट के साथ-साथ, कुछ और अन्य जाँच कराने की भी सलाह दे सकते हैं।  

 

Master Blood Check-up covering 61 tests like Iron, Vitamn D, Thyroid Function, Complete Hemogram, Renal Profile, Lipid & Cholestrol Profile just in 299 RS click now to avail offer



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !