क्यों जरूरी हो जाता है महिला का गर्भाशय निकालना (हिस्टेरेक्टॉमी)?

भाषा चयन करे

21st April, 2016

Hysterectomy ke Dauran Kya Nikal Diya Jata Hai? | हिस्टेरेक्टॉमी के दौरान क्या निकाल दिया जाता है? | What is removed during a hysterectomy?गर्भाशय हर एक महिला की प्रजनन प्रणाली का सबसे विशेष अंग होता है। यहीं पर भ्रूण का विकास होता है। लेकिन कभी-कभी किन्हीं कारणों से गर्भाशय में कोई बिमारी लग जाने पर यदि उसका उपचार मुश्किल हो जाए तो महिला का गर्भाशय ही निकाल दिया जाता है। गर्भाशय को जिस सर्जरी के माध्यम से निकाला जाता है, उसे हिस्टेरेक्टॉमी कहते हैं। किसी महिला के गर्भाशय को निकालने के पीछे कोई भी कारण हो सकता है। उदाहरण के तौर पर; गर्भाशय में कोई ऐसी बिमारी हो जाना, जिनका इलाज आसान या सम्भव ही न हो और महिला को उससे परेशानी हो रही हो।

Image Source

समस्याएँ जिनमें  हिस्टेरेक्टॉमी की आवश्यकता पड़ती है-

यूटेराइन फाइब्रॉएड- यदि किसी महिला को यूटेराइन फाइब्रॉएड  की समस्या है, तो उसके गर्भाशय की दीवारों में गाठें बन जाती है। इस दौरान, उन्हें पीरियड्स के दौरान, बहुत ज्यादा रक्तस्त्राव, ऐठन, सेक्स के दौरान बहुत ज्यादा दर्द, बार-बार यूरिन पास करना जैसी समस्याएं होती हैं। गर्भाशय फाइब्रॉएड से पीड़ित महिला की स्थिति यदि गंभीर हो जाए तो उसका गर्भाशय निकाल दिया जाता है।

इंडोमेट्रियॉसिस- जब गर्भाशय की दीवारों के ऊतक, गर्भाशय के बाहर और उसके आस-पास के अंगों में भी फ़ैलाने लगते हैं, तो इसके कारण मासिक धर्म के दौरान, महिला को बहुत ज्यादा दर्द होता है। इसके अलावा अत्यधिक रक्तस्त्राव, चोट, और गर्भधारण में समस्या जैसे लक्षण भी नज़र आते हैं। ऐसी स्थिति में भी महिला का गर्भाशय निकाल दिया जाता है।

यूटेराइन प्रोलैप्स- इस स्थिति में महिला का गर्भाशय, वेजाइना की तरह खिसक कर आ जाता है। क्योकि गर्भाशय को पकड़ कर रखने वाले ऊतक कमजोर हो जाते हैं। इसके कारण महिला को यूरिन को नियंत्रित न कर पाना, श्रोणि में दबाव, और मल त्याग में परेशानी जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है। ऐसा मुख्य रूप से मोटापा, लगातार खांसी, बच्चें के जन्म के समय या हॉर्मोन में बदलाव (रजोनिवृत्ति के बाद) के कारण होता है।

पेडू में दर्द- महिलाओं को बहुत से कारणों से श्रोणि या पेडू में दर्द होता है और इसके लक्षण भी हर महिला में अलग-अलग हो सकते हैं। इंडोमेट्रियॉसिस, फाइब्रॉएड, संक्रमण और चोट के कारण महिला को श्रोणि या पेडू में दर्द हो सकता है। ऐसा जरुरी नहीं कि हिस्टेरेक्टॉमी के बाद, इस समस्या से जूझ रही महिला को निजात मिल जायेगा। इसलिए यदि किसी महिला में पेडू में दर्द होता है तो सबसे पहले उसे इसके सही कारणों का पता लगाना चाहिए और फिर अन्य तरीके से उपचार के बारे में सोचना चाहिए।

असामान्य रक्तस्त्राव-असामान्य हॉर्मोन, फ़िब्रोइड, गर्भाशय ग्रीवा में संक्रमण और कैंसर के कारण ऐसा हो सकता है। इससे सम्बंधित लक्षण पीरियड के दौरान अत्यधिक रक्तस्त्राव और सामान्य से लम्बा पीरियड हैं। वैसे तो इस समस्या के लिए हिस्टेरेक्टॉमी किया जाता है लेकिन इस समस्या के लिए कई अन्य उपचार के तरीके भी उपलब्ध है।

गर्भाशय, गर्भाशय ग्रीवा, या अंडाशय का कैंसर-यदि किसी महिला को इसमें से किसी भीं प्रकार का कैंसर हो तो उसके लिए डॉक्टर हिस्टेरेक्टॉमी करते हैं, ताकि वह शरीर के बाकि हिस्सों में न फैले।  

Master Blood Check-up covering 61 tests like Iron, Vitamn D, Thyroid Function, Complete Hemogram, Renal Profile, Lipid & Cholestrol Profile just in 299 RS click now to avail offer



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !