देखने की क्षमता को भारी नुकसान पहुँचा सकता है, मैक्यूलर डिजनेरेशन

भाषा चयन करे

16th December, 2017

धब्बेदार अध: पतन की समस्या | Dhabbedar Adhah Patan ki Samasya | Macular Degeneration problem

मैक्यूलर डिजनेरेशन   Image Source

देखने की क्षमता को भारी नुकसान पहुँचा सकता है, मैक्यूलर डिजनेरेशन (Macular Degeneration)

मैक्यूलर डिजनेरेशन, जिसे उम्र से संबंधित मैकिलेटर डिजनेरेशन (एएमडी) या आयु से संबंधित धब्बेदार अध: पतन के रूप में भी जाना जाता है, इसमें रेटिना (दृष्टिपटल) में कमी आ जाती है यानी वह क्षतिग्रस्त हो जाता है। यह एक ऐसी समस्या है, जो आँखों की देखने की क्षमता को गंभीर रूप से खराब कर सकती है और अभी तक चिकित्सा जगत में इसका कोई सफल इलाज मौजूद नहीं है। लेकिन विटामिन, लेजर थेरेपी, दवाओं द्वारा इसे कुछ हद तक नियंत्रित किया जा सकता है। यह समस्या आम तौर पर 60 से ऊपर के व्यक्तियों में पनपती है और इसीलिए इसे एज रिलेटिड यानी उम्र से सम्बंधित रोग कहा जाता है।

मैक्यूलर डिजनेरेशन दो प्रकार का होता है-

सूखा यानी ड्राई मैक्यूलर डिजनेरेशन

ड्राई मैक्यूलर डिजनेरेशन में आँख के मैक्युला में एक पीले रंग का पदार्थ इकट्ठा हो जाता है जिसे ड्रुसन (पीले रंग के गुच्छे या गढ्ढे) कहा जाता है। यदि यह गुच्छे कम होते हैं, तो इससे देखने की क्षमता पर कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन यदि इनकी संख्या और आकार बढ़ जाते हैं तो व्यक्ति को पढ़ते या किसी चीज को ध्यान से देखते समय कम दिखाई देने लगता है। यदि यह समस्या सामान्य से कहीं ज़्यादा बढ़ जाए तो आँखों के उस हिस्से की कोशिकाएं या तो क्षतिग्रस्त हो जाती हैं या फिर मृत हो जाती हैं, इस स्थिति में व्यक्ति की केंद्रीय दृष्टि  बहुत कम हो जाती है।

नम या वेट मैक्यूलर डिजनेरेशन

मैक्यूलर डिजनेरेशन की नम अवस्था वह होती है, जिसमें मैक्युला के नीचे कोरोज़ से रक्त वाहिकाओं की असामान्य बढ़ोत्तरी हो जाती है। इस स्थिति को कोरोएडियल नेवस्क्यराइजेशन कहा जाता है। अत्यधिक फुलाव के कारण इन रक्त वाहिकाओं को क्षति पहुँच जाती है और इससे रेटिना में रक्त और तरल का रिसाव होना शुरू हो जाता है। इसके कारण आँखों की सतह पर लहरदार पंक्तियों के साथ-साथ जगह-जगह चकते बन जानते हैं। यही चकते देखने की प्रक्रिया में बाधा डालते हैं। इसके कारण भी व्यक्ति के देखने की क्षमता पर बहुत बुरा असर पड़ता है।

इन दोनों समस्याओं में से ज़्यादातर लोगों में ड्राई मैक्यूलर डिजनेरेशन की समस्या देखने को मिलती है। हालाँकि जिन्हें एक बार ड्राई मैक्यूलर डिजनेरेशन की समस्या हो जाती है, इसके बाद यह वेट मैक्यूलर डिजनेरेशन को भी जन्म दे सकती है।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !