एडिनॉयडेक्टॉमी के बाद रिकवरी

भाषा चयन करे

13th June, 2016

Kaise karein Adenoidectomy ke baad recovery? | कैसे करें एडिनॉयडेक्टॉमी के बाद रिकवरी? | How to recover after Adenoidectomy?जिन बच्चों में, कण्ठशूल अर्थात एडिनॉयड में सूजन की समस्या बार-बार होती है या एंटीबॉयटिक दवाओं से आराम नहीं मिलता अथवा एडिनॉयडिटिस के साथ-साथ बार-बार कान में परेशानियां भी होती हैं, तो इन समसयाएं के उपचार के लिए एडिनॉयड को काट कर निकाल दिया जाता है। इस प्रक्रिया को एडिनॉयडेक्टॉमी कहते हैं। एडिनॉयडेक्टॉमी की सर्जरी होने के बाद, हर सर्जरी की प्रक्रिया की तरह ही कुछ परेशानियां भी होती हैं, जिनको ठीक होने में कुछ समय लगता है। साथ ही कुछ सावधानियों को बरतने की भी जरूरत होती है।

Image Source

एडिनॉयडेक्टॉमी के बाद होने वाली समस्याएँ

एडिनॉयडेक्टॉमी होने के बाद, जब तक एनेस्थिसिया (बेहोशी की दवा) का प्रभाव पूरी तरह ख़त्म नहीं हो जाता, तब तक बच्चा मतली का अनुभव करता है। एनेस्थिसिया का प्रभाव खत्म होने के बाद भी लगभग एक हफ्ते तक निम्नलिखित समस्याएँ हो सकती हैं।

समस्याएँ:-

  • गले में खराश- सर्जरी के बाद बच्चे के गले में खराश की समस्या सात से दस दिनों तक हो सकती है और खाने असहजता भी हो सकती है।
  • बुखार-  बच्चे को सर्जरी के बाद कई दिनों तक हल्का बुखार रह सकता है। यदि बुखार 102 डिग्री फॉरेनहाइट से अधिक हो जाता है, तो डॉक्टर को दिखना चाहिए। यदि बुखार के साथ-साथ सुस्ती, मतली, उल्टी, सिरदर्द, या गर्दन में अकड़न आदि अन्य लक्षण भी हो, तो इनके तुरंत उपचार की जरूरत होती है।
  • मुँह से साँस लेना – सर्जरी के बाद बच्चा गले में सूजन की वजह से, मुँह से साँस ले सकता है और सोते समय खर्राटे ले सकता है। सूजन खत्म होने के बाद साँस सामान्य हो जाती है। आम तौर पर यह समस्या सर्जरी के बाद लगभग 10 से 14 दिनों तक हो सकती है। लेकिन यदि साँस लेने में ज्यादा कठिनाई हो तो डॉक्टर को दिखाना चाहिए।
  • दर्द- गले और कान का हल्का दर्द, सर्जरी के बाद कुछ हफ्तों के लिए सामान्य होता  है। डॉक्टर दर्द नियंत्रण के लिए दर्द निवारक दवाओं की सलाह देता है।
  • मुंह में पपड़ी होना – जहां टॉन्सिल या एडिनॉयड या दोनों को हटाया जाता है वहाँ पर मोटी, सफेद पपड़ी विकसित हो जाती है। यह सामान्य है और अधिकांशतः पपड़ियाँ सर्जरी के बाद 10 दिनों के भीतर छोटे-छोटे टुकड़ों में टूट कर निकल जाती हैं। इसमें ध्यान रखना चाहिए की बच्चा पपड़ी को छुएं नहीं। इन पपड़ियों की वजह से मुँह से दुर्गन्ध भी आ सकती है।

ये समस्याएँ लगभग सभी एडिनॉयडेक्टॉमी एवं टॉन्सिलेक्टॉमी के रोगियों में होती है। इसलिए इन समस्यों को सामान्य कहा जाता है , लेकिन यदि इनसे विपरीत कोई अन्य लक्षण दिखाई देते हैं तो डॉक्टर को दिखाया जाना चाहिए।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !