जानिये कैसी होती है आपकी आँखों की संरचना

भाषा चयन करे

28th November, 2017

Aankh ki sanrachna | आँख की संरचना | Structure of the eyeहमारी आँखें, जिनका कार्य देखना होता है, बाहर से भले ही बेहद साधारण सी संरचना दिखती हो, लेकिन यह बेहद जटिल संरचना होती है जो बाहरी चीजों का चित्र बेहद तेजी से हमारे मस्तिष्क तक पहुँचा देती है और हम उस वस्तु को देख पाते हैं। आँखे हमारे शरीर के सबसे संवेदनशील अंगों में से एक है और यह बिलकुल ऐसे काम करती है, जैसे कैमरा। कैमरे की ही भांति यह भी रेटिना पर प्रतिबिम्ब बनाती है। हम अपने इस लेख में आँख की भीतरी और बाहरी संरचना का ज़िक्र करने जा रहें हैं।

Image Source

आँख की संरचना और उसके भाग-

  • नेत्रपटल या (कॉर्निया): यह आँख की सबसे आगे की पारदर्शी परत होती है हो जो बाहर से आने वाले प्रकाश को ग्रहण करता है।
  • पुतली: यह आँख की वह पतली सी रंगीन संरचना होती है, जो निर्धारित करती है कि प्रकाश कितनी मात्रा अंदर प्रवेश करना चाहिए।  
  • शीशा (लेंस): आंख के अंदर पारदर्शी संरचना जो रेटिना पर प्रकाश किरणों को केंद्रित करता है।
  • नेत्रपटल या दृष्टि पटल  (रेटिना): यह आँख के भीतरी हिस्से में स्थित एक प्रकाश-संवेदनशील ऊतक होता है। प्रकाश हमारे कॉर्निया, पुतली और लेंस के माध्यम से होते हुए रेटिना पर केंद्रित होता है। यहीं से प्रकाश आवेगो में परिवर्तित होकर आँखों की तंत्रिकाओं के माध्यम से हमारे मस्तिष्क तक पहुँचता है।
  • बिंदु (मैकुला): यह रेटिना के भीतर एक ऐसा छोटा सा केंद्र बिंदु होता है, जिसमें में विशेष प्रकाश-संवेदनशील कोशिकाएं मौजूद होती हैं और हमें चीजों को और स्पष्ट रूप से देखने में मदद करता है।
  • दृष्टिपरक तंत्रिका (ऑप्टिक नर्व): आँख और मस्तिष्क के बीच संबंध स्थापित करती है और रेटिना द्वारा निर्मित विद्युत आवेगों को मस्तिष्क तक पहुँचाती है।
  • कांचाभ दृश्य (विट्रियस): यह लेंस और रेटिना के बीच एक पारदर्शी, जेली जैसा पदार्थ होता है जिसे कांचाभ दृश्य के नाम से जाना जाता है।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !