कहीं आप भी तो नहीं हो रहे ग्लूकोमा या काला मोतिया के शिकार?

भाषा चयन करे

17th November, 2015

Kala Motiya ke Kya Lakshan | काला मोतिया के लक्षण | Symptoms of Glaucomaग्लूकोमा, या काला मोतिया जिसे कांच बिंदु रोग के नाम से भी जाना जाता है, एक ऐसी बिमारी है, जो आँखों को धीरे-धीरे कमजोर बनाते हुए आँखों की दृष्टि को पूरी तरह से छीन लेती है। हालाँकि यदि इस बीमारी की पहचान की बात की जाए, तो शुरुआत में इसे पहचानना बेहद मुश्किल होता है, और ऐसा इसलिए क्योंकि इसकी गति बेहद धीमी होती है।

Image Source

लेकिन, आँखों की अन्य परेशानियों की तरह ही इसका असर भी दृष्टि पर जरूर पड़ता है। इसलिए यदि आपको धुंधला दिखना शुरू हो गया हो, या फिर आपके चश्मे का नंबर बढ़ता जा रहा हो और लाइट में धुंधला नजर आता हो तो एक बार डॉक्टर से अपनी जाँच जरूर करानी चाहिए।

ग्लूकोमा के लक्षण- काला मोतिया के लक्षण

यदि ग्लूकोमा के शुरुआती लक्षणों की बात की जाए, तो ख़ास तौर पर इसके लक्षण नजर नही आते हैं। जिसका सबसे बड़ा कारण है, इसका बेहद धीमी गति से बढ़ना। आम तौर पर आँखों में कोई भी समस्या होने पर सबसे पहले सिर दर्द और दृष्टि का गिरना नजर आते हैं। लेकिन यदि आप ग्लूकोमा के लिए इस तरह के लक्षणों का इंतजार कर रहे हैं, तो शायद आप गलत कर रहे हैं।

लेकिन जब, काला मोतिया बढ़ने लगता है, तो अचानक आंख में दर्द, सिर दर्द, धुंधली दृष्टि, इत्यादि लक्षण नजर आने लगते हैं। वहीं यदि यह बिमारी चर्म पर पहुंच जाए तो आपको उल्टी और मतली जैसे लक्षण भी होने लगते हैं।

ग्लूकोमा के कुछ लक्षण इस प्रकार से नजर आते हैं-

  • चश्मे के नंबर में जल्दी-जल्दी बदलाव होना।
  • पूरे दिन के काम के बाद शाम को आँखों या सिर में दर्द होना।
  • टय़ूब लाइट या बल्ब की रोशनी चारों ओर से धुंधली दिखना।
  • अंधेरे कमरे में आने पर चीजों पर फोकस करने में परेशानी होना।
  • साइड विजन को नुकसान होना और बाकी विजन नॉर्मल बनी रहती हैं।
  • कभी-कभी मतली या उल्टी होना।
  • कई रोगियों को रात में दिखना बंद भी हो जाता है।
  • यदि आपको भी कुछ इस तरह के लक्षण नजर आ रहें हैं, तो किसी आई स्पेशलिस्ट से सम्पर्क जरूर करें।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !