कोलेस्ट्रॉल की जाँच

भाषा चयन करे

28th October, 2015

Colesterol Star ko Prabhavit karne vale Karak | कोलेस्ट्रॉल स्तर को प्रभावित करने वाले कारक | Factors that affect Cholesterol Levelsअगर आपकी उम्र 20 से अधिक है, तो आपके डॉक्टर को हर पांच साल में कम से कम एक बार आपके कोलेस्ट्रॉल की जाँच करनी चाहिए। यह एक लिपिड प्रोफाइल नामक, साधारण रक्त परीक्षण होता है। इस परीक्षण में आप निम्नलिखित चीजों को देखते हैं:

  • कुल कोलेस्ट्रॉल स्तर
  • HDL का स्तर
  • LDL का स्तर
  • ट्राइग्लिसराइड्स का स्तर
Image Source

आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर के माध्यम से आपका चिकित्सक आपको ये बता सकता है कि आपको हृदय की बीमारी का खतरा है या नहीं। अगर आपका LDL का स्तर 190 से ज्यादा है तो इसे उच्च स्तर का ख़राब कोलेस्ट्रॉल माना जाता है और डॉक्टर इसे कम करने के लिए, आपको दवाइयाँ देता है। और अगर आपका HDL का स्तर 60 से ज्यादा है तो ये आपके लिए ख़ुशी की बात है मतलब आपको हृदय रोग और हार्ट अटैक का खतरा कम है। इसलिए आपको हृदय की बीमारियों से निजात पाने के लिए HDL को ज्यादा और LDL के स्तर को कम रखना चाहिए।

कोलेस्ट्रॉल के स्तर के अलावा, चिकित्सक कुछ और कारको को भी देखते हैं जैसे आपकी उम्र, रक्तचाप, धूम्रपान का इतिहास, और रक्तचाप की दवाओं का उपयोग। हृदय की बीमरियों में ये भी महत्वपूर्ण भूमिका निभातें हैं। अगर आपको पहले से ही हृदय की बीमारी है तो यह पता चल सकता है कि अगले 10 वर्षों में आपको प्रमुख हृदय समस्याओं की संभावना है या नहीं। इन सब चीज़ों से आप और आपके डॉक्टर इसे कम करने के लिए एक रणनीति विकसित कर सकते हैं। इस रणनीति के द्वारा, आप स्वस्थ आहार और संभवतः दवाओं के माध्यम से अपने कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकते हैं।

कोलेस्ट्रॉल स्तर को प्रभावित करने वाले कारक

बहुत सी ऐसी चीजें हैं जो आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर को प्रभावित कर सकती हैं।

जैसे:

आपका आहार: अपने आहार में से संतृप्त वसा (saturated fat), ट्रांस वसा (trans fats), और कोलेस्ट्रॉल को कम करें। यह सभी आपके रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाते हैं। बहुत ज्यादा चीनी खाने से और बहुत से सरल कार्बोहाइड्रेट (simple carbohydrates) भी आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर में वृद्धि करते हैं।

वजन: अधिक वजन होने से आपको हृदय रोग का खतरा होता है। यह भी आपके कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है। वजन कम करने से आपका LDL, कुल कोलेस्ट्रॉल के स्तर, और ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को कम करने में मदद मिलती है । साथ ही यह आपके HDL को बढ़ाने में भी मदद करता है।

नियमित व्यायाम: नियमित व्यायाम से LDL कम और HDL कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है। आप पूरी दिन में केवल 30 मिनट के लिए व्यायाम करने की कोशिश करें।

आयु और लिंग: अगर आपकी आयु ज्यादा है तो आपको उच्च कोलेस्ट्रॉल की परेशानी हो सकती है। रजोनिवृत्ति के बाद, महिलाओं के HDL का स्तर बढ़ जाता है।

अनुवांशिकता: आपके जीन आंशिक रूप से कोलेस्ट्रॉल का निर्धारण करते हैं। रक्त में उच्च कोलेस्ट्रॉल परिवार के इतिहास पर भी निर्भर करता है।

चिकित्सकीय स्थिति: कभी-कभी चिकित्सकीय स्थिति भी उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर का कारण हो सकता है। उदाहरण के लिए, हाइपोथायरायडिज्म (hypothyroidism), यकृत रोग (kidney disease), और गुर्दे की बीमारी (liver disease) इसमें में शामिल है।

चिकित्सा: ऐसी दवाएं जैसे स्टेरॉयड (steroids) और प्रोजेस्टिन्स (progestins) , “ख़राब” कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा देती है और “अच्छे” कोलेस्ट्रॉल को कम करती है।

Master Blood Check-up covering 61 tests like Iron, Vitamn D, Thyroid Function, Complete Hemogram, Renal Profile, Lipid & Cholestrol Profile just in 299 RS click now to avail offer



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !