शब्दावली- कोलेस्ट्रॉल, हृदय रोग और उच्च रक्तचाप

भाषा चयन करे

27th September, 2015

 Sabdavali- Cholesterol, Hridaya Rog aur Uchh Raktachaap | शब्दावली- कोलेस्ट्रॉल, हृदय रोग और उच्च रक्तचाप | Glossary of Terms for Cholesterol, Heart Disease and High Blood Pressureक्या आप चिकित्सा के विभिन्न शब्दजाल में उलझ से गए? यदि हाँ, तो इसे देखें। यह आपको चिकित्सा के विभिन्न शब्द, जैसे- जीवन शैली में परिवर्तन, हृदय रोग, उच्च कोलेस्ट्रॉल और उच्च रक्तचाप, को समझने में मदद करेगा।

Image Source

 
एरोबिक व्यायाम- इसे “कार्डियो,” एरोबिक व्यायाम के रूप में भी जाना जाता है, यह एक तरह की शारीरिक सक्रियता (Physical Activity) होती है जिससे आपके हृदय की दर (Heart Rate) बढ़ जाती है। उदाहरण के लिए, तेज चलना, रस्सी कूदना, दौड़ना और तैराकी शामिल हैं। अध्ययनों से पता चलता है की एक सप्ताह में 5 से 7 दिनों रोज 30 मिनट एरोबिक व्यायाम करने से, हृदय की बीमारियों का खतरा कम हो जाता है, इससे रक्तचाप कम, और आपका HDL (अच्छा कोलेस्ट्रॉल) बढ़ता है, और वजन घटाने में भी मदद मिलती है।

DASH आहार- DASH (आहार के प्रयास से उच्च रक्तचाप रोकने के लिए) एक स्वस्थ आहार योजना होती है जिससे राष्ट्रीय हृदय, फेफड़े और रक्त संस्थान ने बनाया है ,जो रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। इस योजना में, आप ताजा फल और सब्जियाँ, कम वसा वाले डेयरी उत्पाद, साबुत अनाज, मछली, मुर्गी, सेम, बीज, और नट्स का प्रयोग करते हैं। इस तरह के आहार में संतृप्त वसा, कोलेस्ट्रॉल, शक्कर, लाल मांस, और नमक की मात्रा बहुत कम होती है।

फाइबर- ऐसा कार्बोहाइड्रेट जो फल, सब्जियां, और अनाज में पाया जाता है। फाइबर, दो प्रकार के होते हैं। घुलनशील फाइबर जैसे – जई, मटर, सेम, सेब, खट्टे फल, गाजर, और जौ में पाया जाने वाला पानी में घुलनशील फाइबर होता है और यह कोलेस्ट्रॉल को और रक्त में शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता हैं। अघुलनशील फाइबर ऐसे होते है जो गेहूं के आटे में, गेहूं की भूसी, नट, सेम, और अन्य सब्जियों जैसे गोभी और आलू, पाचन में सहायक और कब्ज के इलाज और उसे रोकने में मदद करता है। रिसर्च के द्वारा यह पता चला है की, अपने आहार में ज्यादा फाइबर (एक दिन में कम से कम ,पुरुषो के लिए 38 ग्राम और महिलाओं के लिए 25 ग्राम) लेने से हृदय रोग के जोखिम को कम किया जा सकता है।

HDL कोलेस्ट्रॉल- मुख्यतः आपके रक्त में दो तरह के कोलेस्ट्रॉल पाए जाते हैं- HDL और LDL। HDL को अच्छा प्रकार का कोलेस्ट्रॉल कहा जाता है। यह एक सफाई कर्मचारी की तरह काम करता है, यह अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल को वापस जिगर तक ले जाता है। जब डॉक्टर आपके रक्त परीक्षण द्वारा कोलेस्ट्रॉल के स्तर की जाँच करता है तो आपका HDL का स्तर ज्यादा होना चाहिए। HDL का स्तर 60 या उससे अधिक होने से हृदय रोग का खतरा कम होता है।

हृदय की दर- जब आपका हृदय तेजी से धड़कता है तो आपके हृदय की दर ज्यादा होती है। इसे आपकी नाड़ी भी कहा जाता है। व्यायाम के द्वारा आप अपने हृदय की जाँच कर सकते हैं की वह कितने ठीक से काम कर रहा है। आपके हृदय की दर, आपकी उम्र और कैसी गहन गतिविधि कर रहे हैं, उस पर निर्भर करता है। अपने चिकित्सक से जाँच करवायें, खासकर अगर आपको हृदय रोग है। आप हृदय की दर को देखने के लिए, हार्ट रेट मॉनिटर को पहन सकते हैं या अपनी उंगलियों को मुख्यतय अपनी कलाई पर रख कर, अपनी पल्स को चेक कर सकते हैं।

हाइपरटेंशन या उच्च रक्तचाप- उच्च रक्तचाप का एक और नाम, हाइपरटेंशन एक ऐसी स्थिति होती है, जब रक्त, प्रबलता से धमनियों के माध्यम से बहता है। रक्तचाप को दो नंबर के द्वारा मापा जाता है, शीर्ष संख्या सिस्टोलिक रक्तचाप कहा जाता है, और नीचे की संख्या को डायस्टोलिक रक्तचाप कहते हैं। अगर आपका रक्यचाप 140 / 90 या उससे ज्यादा है तो उसे उच्च रक्तचाप कहते हैं। सामान्य रक्तचाप 120/80 या उससे कम को कहते हैं।

LDL कोलेस्ट्रॉल- यह कोलेस्ट्रॉल का “ख़राब ” प्रकार होता है। वैसे आपके शरीर को कोशिकाओं का निर्माण करने के लिए कोलेस्ट्रॉल की थोड़ी सी मात्रा की जरूरत होती है, पर अगर LDL की मात्रा बहुत ज्यादा हो जाये तो हृदय रोग का कारण बन सकता है। यह रक्त वाहिकाओं की दीवारों पर पट्टिका का निर्माण करता है जिससे रक्त प्रवाह में अवरोध उत्पन होता है और हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है।

ध्यान- यह एक प्रकार की तकनीक होती है जिससे आप अपने मन, दिमाग को शांत करते हैं और अपनी सांसो पर ध्यान केंद्रित करते हैं, शारीरिक उत्तेजना, या एक ही शब्द या वाक्य को बार-बार दोहराते हैं (कभी कभी एक मंत्र कहा जाता है)। रिसर्च द्वारा यह पता चला है की, नियमित रूप से ध्यान करने से, तनाव, रक्तचाप और हृदय रोग के जोखिम को कम किया जा सकता है।

माइंडफुल्ल्नेस्स- इसमें आपको उसी पल में रहने का मतलब वर्तमान में अपना ध्यान ध्यान केंद्रित करने का अभ्यास होता है। इस प्रकार के ध्यान में आप आँखों को बंद करके, पीठ को सीधी और पैरो को बांध कर, ध्यान में बढ़ जाते हैं और सांसो को अंदर और बाहर लेते हुए ध्यान केंद्रित करते हैं। अध्ययनों से पता चलता है की, बार- बार माइंडफुल्ल्नेस्स के अभ्यास से आप तनाव में कमी, रक्तचाप और हृदय की बीमारी की संभवना को कम कर सकते हैं, इसके अलावा आपको और भी बहुत से स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं।

मोनोसैचुरेटेड फैट- एक तरह का अच्छा वसा होता है जो खाद्य पदार्थ जैसे नट्स, अवोकाडोस और तेल जैसे जैतून और केनोला में पाया जाता है। अध्ययनों से पता चलता है कि संतृप्त वसा वाले खाद्य पदार्थ की जगह असंतृप्त वसा वाले खाद्य पदार्थों के प्रयोग से कोलेस्ट्रॉल को कम और हृदय रोग को रोका जा सकता है।

ओमेगा -3 फैटी एसिड- यह एक तरह का पॉली अनसेचुरेटेड वसा होता है जो आपको बहुत से शारीरिक कार्यों को करने की जरूरत होती है। यह आपको हृदय रोग और स्ट्रोक के खतरे से बचाता है। मानव शरीर में ओमेगा -3 s नहीं बनाता है। ओमेगा -3 फैटी एसिड तीन प्रकार के होते हैं: ALA,जो अलसी, सोयाबीन और कनोला के तेलों में और कुछ हरी सब्जियां जैसे गोभी और पालक में पाया जाता है और DHA और EPA, वसायुक्त मछली में पाया जाता है।

पट्टिका (अपने दिल की धमनियों में)- वसा, कोलेस्ट्रॉल, और कैल्शियम का, आपकी धमनियों में निर्माण। यह आपके अंगों में रक्त के प्रवाह को कम करता है।

पॉलीअनसेचुरेटेड वसा- यह एक स्वस्थ वसा का प्रकार होता है जो मछली, अखरोट, अलसी, और तेलों जैसे मक्का, सोयाबीन, और सनफ्लॉवर में पाया जाता है। अध्ययनों से पता चलता है कि संतृप्त वसा वाले खाद्य पदार्थ की जगह असंतृप्त वसा वाले खाद्य पदार्थों के प्रयोग से कोलेस्ट्रॉल को कम और हृदय रोग को रोका जा सकता है।

प्रीहाइपरटेंशन- अगर आपका रक्तचाप सामान्य 120/80 से थोड़ा ज्यादा लेकिन 140/90 से अधिक ना हो तो इसे प्रीहाइपरटेंशन कहा जाता है। प्रीहाइपरटेंशन से आपको स्ट्रोक और ह्रदय रोग का खतरा होता है इसलिए डॉक्टर अक्सर आपको आपने जीवन शैली में परिवर्तन जैसे व्यायाम और स्वस्थ खाने को कहते हैं, इसकी सहायता से आप अपने रक्तचाप को सामान्य श्रेणी में ला सकते हैं।

संतृप्त वसा- यह एक प्रकार का अस्वस्थ वसा होता है जो लाल मांस, अंडा, और डेयरी उत्पादों में पाया जाता है। रिसर्च से यह पता चला है की, संतृप्त वसा रक्त में कुल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को और LDL को बढ़ाता है जिससे हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है।

सोडियम- यह एक आवश्यक पोषक तत्व होता है जो कई खाद्य पदार्थों और टेबल नमक में पाया जाता है। सोडियम आपकी मांसपेशियों और तंत्रिका कोशिकाओं को काम करने में मदद करता है और आपके रक्तचाप को नियंत्रित करता है। लेकिन इसकी केवल कम मात्रा में ही जरूरत होती है।जब आपके शरीर में इसकी मात्रा बहुत अधिक हो जाती है तो उच्च रक्तचाप और सूजन हो जाता है। सोडियम की एक दिन में आवश्यक मात्रा (एक चम्मच के बराबर) 2,300 मिलीग्राम है। यदि आपको उच्च रक्तचाप या अन्य स्वास्थ्य समस्या है, तो आपके चिकित्सक आपको कम नमक लेने की सलाह देंगे।

शक्ति प्रशिक्षण- यह एक तरह का व्यायाम होता है जो मांसपेशियों का निर्माण और उनकी ताकत को बढ़ाने के लिए किया जाता है। उदाहरण, पुस्सप्स करना , वजन उठाना, और प्रतिरोध बैंड के साथ काम करना। शक्ति प्रशिक्षण से आप अपने वजन पर नियंत्रण और हृदय रोग के जोखिम को कम कर सकते हैं।

तनाव प्रबंधन- आप ऐसी चीजें कर सकते हैं जो आपकी चिंता और तनाव के स्तर को कम करने में मदद करे। उदाहरण ध्यान, माइंडफुल्ल्नेस्स, व्यायाम, और हँसना।

ट्रांस वसा- यह एक प्रकार का अस्वस्थ वसा है जिसे खाद्य प्रसंस्करण विधि (Food Processing Method) के माध्यम से बनाया जाता है इसे आंशिक हाइड्रोजनीकरण कहते हैं। यह अक्सर स्टोर की हुई कुकीज़, केक, और कई तले हुए खाद्य पदार्थ में पाया है। यह HDL (अच्छा) कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम और LDL (खराब) कोलेस्ट्रॉल के स्तर को ज्यादा करता है और हृदय रोग के खतरे को बढ़ाता है ,इसलिए विशेषज्ञ इसे सबसे खराब वसा में से एक मानते हैं और कहते है की जितना संभव हो उतना इस ट्रांस वसा से बचना चाहिए।

ट्राइग्लिसराइड्स- आपका शरीर अतिरिक्त कैलोरी जिसको जिसका वह उपयोग नहीं करता है उसे एक प्रकार के वसा के रूप में बदल देता है जिसे ट्राइग्लिसराइड्स कहते हैं, जो वसा कोशिकाओं में इकट्ठा होता है। ट्राइग्लिसराइड्स का उच्च स्तर, हृदय रोग होने की संभावना को बढ़ाता है।

असंतृप्त वसा- एक तरह का स्वस्थ वसा होता है जो खाद्य पदार्थ जैसे नट्स ,अवोकाडोस और तेल जैसे जैतून और केनोला में पाया जाता है। असंतृप्त वसा दो प्रकार के होते हैं -मोनोअनसेचुरेटेड और पॉलीअनसेचुरेटेड।

Master Blood Check-up covering 61 tests like Iron, Vitamn D, Thyroid Function, Complete Hemogram, Renal Profile, Lipid & Cholestrol Profile just in 299 RS click now to avail offer



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !