उच्च उत्पादन हृदय विफलता

भाषा चयन करे

19th August, 2015

Untitled design (47)उच्च उत्पादन हृदय विफलता में शरीर की जरूरत के अनुसार हृदय रक्त का प्रवाह नहीं कर पाता। जब शरीर को ज्यादा से ज्यादा रक्त की जरूरत पड़ती है, तो हृदय उसमें समर्थ नहीं होता और हृदय विफलता जैसी समस्याएँ सामने आती हैं।

उच्च उत्पादन हृदय विफलता
उच्च उत्पादन हृदय विफलता की नौबत तब आती है, जब सामान्य तौर पर कार्य करने वाला हृदय शरीर के विभिन्न अंगों तक रक्त को पहुंचाने की मांग को पूरा नहीं कर पाता। हालाँकि हृदय पूरी तरह से स्वस्थ होता है लेकिन शरीर की मांग इतनी बढ़ जाती है कि वह सामान्य से अधिक दबाव नहीं झेल पाता। यानी यह शरीर की रक्त प्रवाह की सामान्य से अधिक मांग को पूरा नहीं कर पाता।

कारण
बहुत सी ऐसी परिस्थितियां हैं जिनमें शरीर में रक्त और ऑक्सीजन की आवश्यकता बढ़ जाती है। जिनमें उच्च उत्पादन हृदय विफलता, एनीमिया, अतिगलग्रंथिता और गर्भावस्था शामिल है। हालाँकि उच्च उत्पादन हृदय विफलता बाकी सारे कारणों में अलग होता है। बाकी सभी एक जैसे होते हैं। लेकिन नतीजे सभी के एक जैसे ही सामने आते हैं। जिसमें हृदय शरीर की जरूरत के अनुसार रक्त की आपूर्ति नहीं कर पाता। जिसमें उच्च उत्पादन हृदय विफलता जैसे कारण का नतीजा घातक हृदय विफलता के रूप में सामने आता है। इसके अलावा साँस लेने में तकलीफ और बेहोशी जैसे नतीजे शामिल हैं।

एनीमिया (खून की कमी)
एनीमिया का मतलब है शरीर में ऑक्सीजन को सभी भागों तक पहुंचाने वाले RBC (रेड ब्लड सेल्स) का कम हो जाना। एनीमिया के कारण कमजोरी, पिली त्वचा और थकावट जैसी स्थिति होती है।

एनीमिया की समस्या खून की कमी या खून के अत्यधिक बहाव के कारण आती है। जिस से लाल रक्त वाहिकाओं (RBC) की रक्त में संख्या कम हो जाती है। एनीमिया के कुछ प्रकारों में लोह तत्वों की  कमी एनीमिया, फोलिक एसिड की कमी से एनीमिया, और विटामिन बी 12 की कमी से एनीमिया शामिल हैं। इनमें से हर एक एनीमिया का इलाज अलग-अलग तरीके से होता है।

अतिगलग्रंथिता (हाइपरथीरोडिस्म)
अतिगलग्रंथिता का सीधा अर्थ शरीर में अत्यधिक थायराइड हार्मोन का बनना है। इस हार्मोन से शरीर की उस क्रिया पर फर्क पड़ता है जिसमें शरीर की ऊर्जा की खपत होती है। ज्यादा थायराइड बनने का मतलब है अचानक से शरीर का वजन गिरना। इस से हृदय की धड़कन भी बढ़ जाती है बहुत ज्यादा पसीना आता है और घबराहट और चिड़चिड़ापन आ जाता है।

कारण ऐसा क्योँ होता है ? इसके प्रभाव
घातक एनीमिया
रक्त में ऑक्सीजन की कमी। हर एक मिनट में हृदय को और ज्यादा रक्त पम्प करने की जरूरत होती है ताकि शरीर के उत्तकों में ज्यादा से ज्यादा ऑक्सीज़न जा सके।
अतिगलग्रंथिता थायराइड ग्रंथि जब बहुत ज्यादा थायराइड हार्मोन पैदा करें। शरीर की चयापचय (Metabolism) प्रक्रिया बढ़ जाती है जिस से शरीर को और ज्यादा रक्त परवाह की जरूरत पड़ती है।
धमनी-नालव्रण
धमनी और एक नस के बीच एक असामान्य कनेक्शन
संचलन में शॉर्ट सर्किट और हृदय पम्प पर रक्त के ज्यादा प्रवाह के लिए दबाव। शरीर के विभिन्न अंगों तक रक्त पहुंचाने का दबाव।
बेरीबेरी थिअमिन (विटामिन बी 1) की कमी  चयापचय (Metabolism) की और ज्यादा मग्न और उस से रक्त प्रवाह की ज्यादा से ज्यादा जरूरत।
पेजेट की बीमारी हड्डियों का असामान्य टूटना और फिर से बनना। जिस से असामान्य तौर पर रक्त वाहिकाओं में बढ़ोतरी हो जाती है।  रक्त वाहिकाओं की बढ़ी हुई संख्या को ज्यादा से ज्यादा हृदयी निर्गम (हृदयी निर्गम) की आवश्यकता पड़ती है। 



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !