वेंट्रिकुलर डिवाइस असिस्ट सर्जरी क्या है?

भाषा चयन करे

19th August, 2015

Untitled design (53)हार्ट पंप के नाम से जानी जाने वाली वेंट्रिकुलर डिवाइस असिस्ट (वी.ए.डी) Ventricular Assist Device (VAD) एक ऐसी यांत्रिक डिवाइस है, जो हृदय को शरीर में रक्त पम्प करने में सहायता करती है।

VAD एक ऐसी डिवाइस है जिसे सर्जरी द्वारा सीने में भी रोपा जा सकता है या इसे बाहर से पहना भी जा सकता है। डिवाइस का पम्प वाला हिस्सा पेट के ऊपरी एक छोटे से हिस्से में लगा दिया जाता है। वह बैटरियां जो पम्पिंग को शक्ति देती हैं उन्हें बेल्ट (पेटी) के माध्यम से बाहर पहन लिया जाता है। VAD को शरीर में रोपने के बाद डॉक्टर बगल में एक और छोटा सा चीरा लगाकर उसमें से यांत्रिक तारों को बाहर निकाल कर बाहर बैटरियों से जोड़ देगा।

VAD हृदय को बाएं, दायें या फिर दोनों तरफ से पम्प करने में मदद कर सकती है। यह व्यक्ति के हृदय घात के प्रकार पर निर्भर करता है कि उसे किस तरफ से पम्प में सहायता की जरूरत है।

कैसे काम करती है यह मशीन?
VAD शरीर में रक्त के पर्याप्त प्रवाह और शरीर में रक्त इकठ्ठा न होने देने जैसा महत्वपूर्ण कार्य करती है। इस मशीन के जरिये कमजोर हृदय को पम्पिंग में सहायता दी जाती है और यह शरीर को पर्याप्त मात्रा में रक्त पहुंचाने में हृदय की मदद करती है। इस से हृदय का काम आसान और सहज हो जाता है। ज्यादातर VAD मशीन स्वचालित होती हैं और वह शरीर द्वारा किये जाने वाले कार्यों के अनुसार खुद को व्यवस्थित कर लेती हैं । उदाहरण के तौर पर यदि आप व्यायाम करना शुरू करते हैं तो यह मशीन खुद ब खुद पम्पिंग तेज कर के रक्त की मात्रा को बढ़ा देगी।

प्रयोग?
वी.ए.डी को हृदय विफलता के प्रकार के अनुसार निश्चित और अनिश्चित समय के लिए लगवाया जा सकता है। जिस व्यक्ति के हृदय में ज्यादा समस्या नहीं होती और उसके हृदय के दोबारा से स्वास्थ्य होने की संभावनाएं होती हैं, उनमें इसे कम समय के लिए लगाया जाता है। वी.ए.डी मशीन का प्रयोग उन लोगों के लिए किया जाता है जिनके हृदय विफलता की स्थिति हृदय के बदले जाने की कगार पर पहुंच चुकी है। वहीं कभी-कभी इसका प्रयोग दवाइयों के साथ-साथ लम्बे समय तक चलने वाले इलाज के लिए भी किया जाता है।

फायदे?
वी.ए.डी उन लोगों के लिए बहुत उपयोगी है जिनका हृदय बहुत जीर्ण अवस्था में पहुंच चुका है, और अब प्रत्यारोपण की कगार पर है। इसका प्रयोग लम्बे समय तक चलने वाली हार्ट थेरेपी के तौर पर भी किया जाता है। जिस से अचानक से हृदय घात से होने वाली मृत्यु को टाला जा सकता है। वहीं इस मशीन के प्रयोग से हृदय घात रोगियों को अपने दैनिक कार्यों में भी राहत मिलती है।

नुकसान?
यदि इस मशीन से होने वाले नुकसान की बात की जाए तो इसके प्रयोग करने वाले रोगियों में स्ट्रोक का ख़तरा बढ़ जाता है। स्ट्रोक के अलावा, बहुत अधिक रक्त बहना, संक्रमण, मशीन का ठीक से कार्य न कर पाना और रक्त के थक्के बन जाने जैसे खतरे भी सामने आ सकते हैं।

क्या VAD मशीन लगवा चुके लोग सामान्य जिदंगी जी सकते हैं?
VAD का प्रयोग करने वाले बहुत से लोग बेहद सामान्य और सहज जीवन जीते हैं। वह अपने दैनिक कार्यों जैसे ड्राइव करना, ऑफिस जाना, सामाजिक कार्य करना और अपने पसंदीदा खेल खेलने जैसे कार्य कर सकते हैं। लेकिन साथ ही इस मशीन को लगवा चुके लोगों को लगातार हेल्थ स्पेशलिस्ट की देख रेख में रहना भी जरुरी होता है। वे न सिर्फ आपके स्वास्थ्य का ख्याल रखेंगे बल्कि इसके लिए वह खुद आपके पास भी आएँगे और नियमित चेक अप भी करेंगे। वह आपको वी.ए.डी मशीन का घर पर ही ख्याल रखने की जानकारी भी देंगे। समस्याओं से बचने के उपाय भी बताएंगे।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !