बच्चों में उच्च कोलेस्ट्रॉल

भाषा चयन करे

23rd September, 2015

Kaise kare Bachhon mien Uchh Cholesterol ka ilaaj ? | कैसे करें बच्चों में उच्च कोलेस्ट्रॉल का इलाज? | How is High Cholesterol in Children Treated?बस वयस्क ही उच्च कोलेस्ट्रॉल से प्रभावित नहीं होते हैं, बच्चे भी होते हैं, जब शरीर में कोलेस्ट्रॉल ज्यादा हो जाता है तो बहुत सी स्वास्थ्य समस्याएं और हृदय रोग का खतरा पैदा हो सकता है। बहुत ज्यादा कोलेस्ट्रॉल से हृदय और अन्य अंगों को रक्त पहुचने वाली धमनियों की दीवारों पर पट्टिका का निर्माण हो जाता है। पट्टिका के निर्माण से धमनियाँ संकीर्ण हो जाती हैं जिससे रक्त का प्रवाह रुक जाता है और हृदय की समस्याए और स्ट्रोक होता है।
Image Source

बच्चों में उच्च कोलेस्ट्रॉल का क्या कारण होता है?

बच्चों में उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर ज्यादातर तीन जोखिम कारकों से जुड़े होते हैं:

  • आनुवंशिकता (बच्चे के लिए माता पिता से पारित कर दिया)
  • भोजन
  • मोटापा

ज्यादातर मामलों में, जब माता-पिता को उच्च कोलेस्टेरॉल हो तो बच्चो में इसका खतरा ज्यादा हो जाता है।

बच्चों में उच्च कोलेस्ट्रॉल का पता कैसे चलता है?

स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर, एक साधारण रक्त परीक्षण के द्वारा छोटे बच्चों में कोलेस्ट्रॉल की जाँच करते हैं। अगर माता-पिता को हृदय रोग और उच्च कोलेस्टेरॉल हो तो बच्चो में इसका खतरा ज्यादा हो जाता है और ऐसे केस में इस तरह का परीक्षण विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। रक्त परीक्षण के परिणाम से ये पता चल जायेगा की बच्चे को कोलेस्ट्रॉल की परेशानी है या नहीं। इसलिए ये अनिवार्य है की एक बार 9 और 11 साल की उम्र के बीच में फिर 17 और 21 साल के बीच में इसकीजाँच होनी चाहिए।चयनित स्क्रीनिंग अनिवार्य है,तब जब आपके परिवार में पिता या भाई जल्दी (65 साल की उम्र से पहले) उच्च कोलेस्ट्रॉल या रक्त वसा (High cholesterol or blood fats) से प्रभावित हुए हों या मां या बहन जल्दी (उम्र 55 से पहले) उच्च कोलेस्ट्रॉल या रक्त वसा से प्रभावित हुए हों तो बच्चो में उच्च कोलेस्ट्रॉल का परीक्षण होना चाहिए।

स्क्रीनिंग उनके लिए भी अनिवार्य है,जब बच्चों का बॉडी मास इंडेक्स 95 प्रतिशतक से अधिक और बच्चों की उम्र 2-8 के बीच में हो। जो बच्चे तंबाकू के धुएं के संपर्क में या मधुमेह या उच्च रक्तचाप हो उन्हें भी कोलेस्ट्रॉल परीक्षण की सलाह दी जाती है।

पहली स्क्रीनिंग 2 साल की उम्र के बाद लेकिन 10 साल के बीच में की जानी चाहिए है। 2 साल की उम्र में ये स्क्रीनिंग नहीं की जाती है. अगर बच्चे की फास्टिंग लिपिड प्रोफाइल (Fasting Lipid Profile) सामान्य है तो इसे 3 और 5 साल में कराया जाता है।

अगर बच्चा अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त है तो हैं उसका उच्च रक्त वसा स्तर (high blood-fat level) या “अच्छा” (HDL) कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होगा ऐसे बच्चों के लिए वजन प्रबंधन प्राथमिक उपचार है। इसका मतलब है, पोषण परामर्श के अनुसार बेहतर आहार और ज्यादा शारीरिक व्यायाम के साथ इसको ठीक किया जा सकता है।

10 साल के उम्र के बच्चे या उससे ज्यादा को जिनका कोलेस्ट्रॉल काफी ज्यादा है (या परिवार का इतिहास जिनको हृदय रोग हुआ हो) दवाओं के उपचार के माध्यम से ठीक करने पर विचार किया जाना चाहिए।

बच्चों में उच्च कोलेस्ट्रॉल का इलाज कैसे होता है?

बच्चों में कोलेस्ट्रॉल के इलाज का सबसे अच्छा तरीका है कि पूरा परिवार स्वस्थ आहार और व्यायाम कार्यक्रम में शामिल हो।

यहाँ पर कुछ टिप्स दिए गए हैं-

कुल वसा, संतृप्त वसा, ट्रांस वसा और कम कोलेस्ट्रॉल वाले खाद्य पदार्थो का सेवन करें। एक बच्चे में दैनिक कुल कैलोरी में वसा की मात्रा 30% या उससे कम होना चाहिए। यह सुझाव 2 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए नहीं है। ट्रांस वसा से परहेज करना चाहिए। जबकि दैनिक कुल कैलोरी में 10% या उनसे कम संतृप्त वसा (saturated fat) होना चाहिए। उच्च जोखिम वाले वर्ग के बच्चों के लिए दैनिक कुल कैलोरी में संतृप्त वसा 7% तक ही सीमित है और 200 मिलीग्राम आहार कोलेस्ट्रॉल दिया जाना चाहिए।
अपने बच्चे के लिए कई किस्म के खाद्य पदार्थों का चयन करें ताकि उनको जरूरत की सभी पोषक तत्व प्राप्त हो।

नियमित रूप से व्यायाम करें। बाइकिंग, चलना, घूमना, तैराकी, नियमित एरोबिक और व्यायाम से आपके बच्चे का (HDL) कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ाने में मदद मिलेगी और हृदय रोग का खतरा भी कम होगा।

यहाँ आपके बच्चे को देने के लिए कुछ स्वस्थ खाद्य पदार्थों के उदाहरण दिए गए हैं-

  • नाश्ते के लिए: फल, बिना -मीठे का अनाज, दलिया, और कम वसा वाला दही। 2 साल की उम्र के बाद, या अपने चिकित्सक के परामर्श से, स्किम या 1% वाला दूध प्रयोग करें।
  • दोपहर का भोजन और रात के खाने के लिए: तेल में फ्राई चीज़ों की बजाये सेंका हुआ या ग्रिल खाद्य पदार्थों को दें। सैंडविच बनाने के लिए ब्राउन या मल्टीग्रेन ब्रेड का प्रयोग करें। इसके अलावा सूप भी एक अच्छा विकल्प है। पास्ता, सेम, चावल, मछली, मुर्गी या अन्य व्यंजन तैयार कर सकते हैं। हमेशा भोजन के साथ-साथ (छिलके के साथ) ताजा फल दें।
  • स्नैक्स: फल, सब्जियों, ब्रेड, और अनाज बच्चों के लिए अच्छा नाश्ता है। बच्चों को सोडा, पैक्ड फल का जूस से बचना चाहिए। हमेशा ताजा फल का जूस दें।

स्वस्थ आहार और व्यायाम अकेले आपके बच्चे का कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार नहीं कर सकता है, आपके बच्चे को कोलेस्ट्रॉल कम करने वाली स्टॅटिन दवाओं (cholesterol-lowering statin drugs) की भी जरुरत हो सकती है।

आहार में परिवर्तन और दवाइयों को देने के बाद बच्चे का कोलेस्ट्रॉल के स्तर का पुनर्परीक्षण होना चाहिए।

Master Blood Check-up covering 61 tests like Iron, Vitamn D, Thyroid Function, Complete Hemogram, Renal Profile, Lipid & Cholestrol Profile just in 299 RS click now to avail offer



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !