कोलेस्ट्रॉल को मात देने के तीन कारगर उपाय

भाषा चयन करे

5th November, 2015

Prakritik Upaye se kam karein Colesterol | प्राकृतिक उपाए से कम करें कोलेस्ट्रॉल | Lower Colesterol with Natural Remediesयदि आपको काफी समय से उच्च रक्त चाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल, या हृदय की बिमारियां रहीं हैं तो आपमें दिल के दौरे और स्ट्रोक का खतरा अधिक हो जाता है। लेकिन ऐसा नहीं है कि आप इस खतरे से नहीं बच सकते बल्कि अपनी जीवन शैली में कुछ बदलाव लाकर इस खतरे को टाल भी सकते हैं।

Image Source

इस स्थिति से बचने के लिए सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण चीज है हमारा खान-पान। हम जाने-अनजाने रोजाना ऐसी चीजें खाते रहते हैं जो धीरे-धीरे हमारे हृदय को नुकसान पहुँचाती रहती हैं। इसलिए हमें अपने हृदय को स्वस्थ्य रखने के लिए क्या चुनना चाहिए यह भी महत्वपूर्ण है। एक और बात कि सिर्फ ऐसा नहीं है कि स्वास्थ्य से भरपूर चीजें खाने में स्वाद नहीं होती, बल्कि कुदरत ने हमें अनेकों प्रकार की ऐसी स्वस्थ्य और स्वादिष्ट चीजों से नवाजा है जो हमारे स्वाद और सेहत दोनों के लिए बहुत उपयोगी है। ऐसे बहुत से खाद्य पदार्थ होते हैं जो हमारे हृदय को नुकसान पहुँचा सकते हैं इसलिए हमें ऐसे खाद्य पदार्थों को चुनना चाहिए जो हमारे हृदय के लिए अच्छा हो।

इनमें हरी सब्जियां, फल, साबुत अनाज और सूखे मेवे ऐसे ही खाद्य-पदार्थ हैं। इन खाद्य पदार्थों में खूब फाइबर होता है जो LDL कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। आप अपने दैनिक आहार में कम से कम 5 कप फल और सब्जियाँ और 1 औंस साबुत अनाज जरूर शामिल करें। सेम, हर तरह की दालें , फलियां, बीज, और सूखे मेवे खाएं।

आप अपना एक साप्ताहिक लक्ष्य बनायें और कम से कम 4 प्रकार के बीज और फलियां जैसे काले सेम, छोले और दाल इसमें शामिल करें। स्वस्थ वसा को अपने खाने में शामिल करें। असंतृप्त वसा ( unsaturated fats ) जैसे कैनोला, जैतून, और मूंगफली के तेल। ये तेल आपकी धमनियों को ब्लॉक होने से रोकते हैं।

ऐसी वसा का चयन करें जो आपके लिए स्वस्थ्य-वर्धक हो। असंतृप्त वसा जैसे कैनोला, जैतून और मूंगफली के तेल का प्रयोग करें । इन तेलों में मक्खन जैसी चर्बी नहीं होती और ये आपकी धमनियों को ब्लॉक होने से भी बचाते हैं।

अपने खाने में मछली को शामिल करें। इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में होता है। मछलियों में आप अल्बकोर ट्यूना मछली, साल्मोन और सार्डिन मछलियाँ शामिल कर सकते हैं। ओमेगा-3s ट्राइग्लिसराइड्स को कम करता है, यह आपकी धमनियों को पट्टिका से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है, निम्न रक्तचाप, और असामान्य हृदय की धड़कन के खतरे को भी कम करता है।

ऐसे प्रोटीन का सेवन करे जिसमे संतृप्त वसा न हो। सेम, नट, मछली और चिकन इसमें मुख्य हैं। लेकिन ध्यान रहे कि इनकी मात्रा भी सही होनी जरुरी है। एक सप्ताह में कम से कम मछली के दो 3.5 औंस का सेवन करे। मांस में कटौती करें क्योंकि इसमें दूसरों की तुलना में अधिक वसा होती है। इसके अलावा फास्ट फ़ूड जैसे, बेकरी की चीजें, पैक्ड फ़ूड, खासकर मांसाहारी , हॉट डॉग, सॉसेज, चिकन नगेट्स जैसी चीजें न खाएं। ये सभी चीजें हमारे हृदय के लिए अच्छी नहीं होती।

यदि आपको वजन घटाने की सलाह दी गई है तो इसके लिए भोजन न छोड़ें। बल्कि वक्त पर और उचित मात्रा में खाना खाएं। यदि आप एक समय का खाना छोड़ते हैं, तो बाद में ज्यादा खाना खाने की संभावना बढ़ जाती है। आप ऐसा भी कर सकते हैं कि अचानक से ज्यादा खाने के बजाय थोड़े-थोड़े समय के बाद थोड़ा-थोड़ा यानी मिनी मील खाएं। इस से आपकी उपापचय क्रिया और मधुमेह दोनों पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा।

हमेशा जायके के पीछे न भागें

यदि आपको उच्च रक्तचाप है और इसे नियंत्रित करना चाहते हैं तो ज्यादा तले-भुने और नमकीन खाने का प्रयोग न करें। बल्कि अपने खाने में ज्यादा नमक और मसालों के बजाय प्राकृतिक हर्ब्स का प्रयोग करें। जैसे चिकन के लिए, रोजमेरी (rosemary) , लहसुन (garlic), या सागे (sage) का उपयोग करें। मछली के लिए, डिल या तारगोन (dill or tarragon) का उपयोग करें। सिरके (Vinegars) के द्वारा हम खाने को और अच्छा बना सकते हैं।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि वजन का बढ़ना अपने साथ कई बीमारियां लेकर आता है। ऐसे में वजन न बढ़ने दें। इस से आपका रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल, और रक्त शर्करा का स्तर सभी पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा। साथ ही इस से दिल के दौरे और स्ट्रोक का खतरा भी टलेगा। यकीन मानिये जैसे-जैसे आपका वजन घटेगा, आपका आत्मविश्वास भी वापस आएगा। वजन घटाने का सबसे अच्छा और सस्ता तरीका व्यायाम है।

इसलिए नियमित व्यायाम करें। ज्यादा सक्रिय रहने की कोशिश करें। यह हमारे हृदय को मजबूत बनाता है। और रक्त प्रवाह में सुधार करता है। अच्छे HDL कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है और रक्त शर्करा (blood sugar) और शरीर के वजन को नियंत्रित करता है।

यदि आप धूम्रपान करते हैं तो जल्द ही छोड़ दें । इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कब से धूम्रपान कर रहे हैं, अनुसंधान से पता चलता है कि अगर आप हृदय रोग की दवाइयाँ ले रहे हैं तो, धूम्रपान छोड़ने से आपको जल्द ही इसका लाभ मिलेगा। धूम्रपान छोड़ने से 33% हृदय की बीमारी से मौत का खतरा कम हो जाता है।

उच्च कोलेस्ट्रॉल में लाभप्रद दवाएँ

यदि आपका कोलेस्ट्रॉल बहुत ज्यादा है तो डॉक्टर आपको आपके खाने में सुधार के साथ-साथ दवाइयाँ भी बता सकते हैं। उच्च कोलेस्ट्रॉल और संतुलित आहार की सहायता से आप कोलेस्ट्रॉल को आसानी से नियंत्रण में कर सकते हैं। इस स्थिति में आपको कम संतृप्त वसा, ज्यादा फाइबर और कम रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट का प्रयोग करना चाहिए।

कोलेस्ट्रॉल हमारी कोशिकाओं का एक महत्वपूर्ण भाग है ये हार्मोन के उत्पादन के लिए भी जरुरी होता है। आमतौर पर, हमारा लिवर, जितनी शरीर की जरूरत हो, उतने कोलेस्ट्रॉल का निर्माण करता है लेकिन अन्य स्रोतों के माध्यम से भी हमें कोलेस्ट्रॉल मिलता है उदाहरण के लिए, जैसे दूध, अंडे, मांस और अन्य पशु उत्पादों को खाने से, इन सभी से हमें कोलेस्ट्रॉल मिलता हैं।हमारे खून में कोलेस्ट्रॉल की बहुत ज्यादा मात्रा कोरोनरी धमनी रोग (coronary artery disease ) का कारण हो सकता है।

उच्च कोलेस्ट्रॉल से लड़ने के लिए निम्न दवाइयों का प्रयोग किया जा सकता है:

  • स्टैटिन्स (Statins)
  • नियासिन (Niacin)
  • पित्त एसिड रेसिन (Bile-acid resins)
  • फाइब्रेटस (Fibrates)

कैसे काम करता है निकोटिन या नियासिन एसिड?

नियासिन एक बी कॉम्प्लेक्स विटामिन है। आमतौर पर तो यह भोजन में भी होता है लेकिन यदि शरीर में इसकी कमी हो तो डॉक्टर इसे दवाइयों के माध्यम से भी बता देते हैं। यह LDL कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और HDL कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा देता है। इसके मुख्य दुष्प्रभाव हैं, निस्तब्धता (flushing), खुजली (itching), झुनझुनी (tingling), और सिर दर्द (headache)। एस्पिरिन इन लक्षणों में से कई को कम कर सकता है। एस्पिरिन लेने से पहले, हालांकि, आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए। शोध अध्ययनों से ये भी पता चला है की नियासिन आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार कर सकता है, लेकिन यह दिल की बीमारी के खतरे को कम नहीं करता है खासकर तब जब आप पहले से ही स्टैटिन ले रहे हों।

कोलेस्ट्रॉल दवाओं के कुछ प्रमुख दुष्प्रभाव:

  • असामान्य जिगर कार्य (Abnormal liver function)
  • एलर्जी (त्वचा पर चमकते हुए निशान ) (Allergic reaction (skin rashes))
  • सीने में जलन (Heartburn)
  • चक्कर आना (Dizziness)
  • अनियमित दर्द होना (Abdominal pain)
  • कब्ज (Constipation)
  • सेक्स की इच्छा में कमी (Decreased sexual desire)
  • यादास्त कम होना (Memory loss)
  • निकोटिनिक एसिड के साथ निस्तब्धता।

यदि आपको मांसपेशियों में दर्द है तो , तुरंत अपने डॉक्टर से सम्पर्क करें क्योंकि यह आपके जीवन के लिए खतरे का संकेत हो सकता है।

कोलेस्ट्रॉल रोधक दवाओं के साथ नजरअंदाज किये जाने वाले फूड्स

यदि आप Statins ले रहें हैं तो ऐसे में ताजा अंगूरों के जूस का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि यह जूस लिवर में दवाओं के उपापचय के साथ हस्तक्षेप कर सकता है। इसके लिए आप अपने डॉक्टर से बात करें वह आपकी दवाइयों को बदल सकता है या इनका समय बदल सकता है। या फिर आप जब तक दवाई ले रहें हैं तो जूस के सेवन से परहेज करें।

Master Blood Check-up covering 61 tests like Iron, Vitamn D, Thyroid Function, Complete Hemogram, Renal Profile, Lipid & Cholestrol Profile just in 299 RS click now to avail offer



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !