क्या है वैसोडायलेटर?

भाषा चयन करे

15th August, 2015

कैसे काम करती हैं वैसोडायलेटर ?

Vasodilator Hrudaya Vifalta ke liye |वैसोडायलेटर हार्ट विफलता के लिए | Vasodilator for Heart Failureवैसोडायलेटर भी शरीर वाहिकाओं को चौड़ा करने का कार्य करती हैं। लेकिन यह शरीर के किसी और पदार्थ के माध्यम से ऐसा करती हैं। यदि रक्त वाहिकाएं चौड़ी हो तो हृदय के लिए रक्त को पम्प करना आसान हो जाता है।

वैसोडायलेटर निम्न तरीकों से हृदय विफलता के लक्षणों में सुधार कर सकती हैं:

  • विस्फारित कोरोनरी धमनि (Dilating coronary arteries) :  इस से हृदय पेशियों को ज्यादा से ज्यादा रक्त पहुंचने में मदद मिलती है।
  • विस्फारित पैर नसें (Dilating leg veins):  इस से हृदय में पीछे लौट जाने वाले रक्त में कमी आती है और फेंफड़ों में बनने वाला तरल भी कम हो जाता है। 
  • विस्फारित प्रणालीगत धमनियां (Dilating systemic arteries):  प्रणालीगत धमनियां वह रक्त वाहिकाएं होती हैं जो पूरे शरीर को रक्त पहुंचती हैं (हृदय और फेफड़ों को छोड़कर)| वैसोडायलेटर हृदय को उन कार्यों से राहत देती है जिसकी उसे जरूरत होती है।
  • विस्फारित फुफ्फुसीय धमनियां (Dilating pulmonary arteries): फेफड़ों की धमनियों में विस्फारित होने से भी हृदय पर पड़ने वाले कार्य भार से उसे राहत मिलती है। 

प्रयोग
दुष्प्रभाव
इन स्थितियों में तुरन्त डॉक्टर से संपर्क करें
यह भी जानें



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !