घुटने में दर्द कहीं एसीएल इंजरी तो नहीं?

भाषा चयन करे

25th June, 2017

Ghutne me Chot | घुटने में चोट | Knee injuryएसीएल इंजरी, घुटने में लगने वाली उस चोट को कहा जाता है, जो घुटने की ऊपरी और निचली हड्डी को आपस में जोड़ कर रखने वाली संधि पर आती है। इस स्थान को एसीएल यानी एनटीरियर क्रूसिएट लिगमेंट कहा जाता है। यदि एसीएल यानी घुटनों की दोनों हड्डियों को जोड़ने वाली इस संधि पर किसी प्रकार की चोट से कोई हानि हो जाती है, इसमें छेद हो जाता है या यह फट जाती है, तो घुटने का संतुलन बिगड़ सकता है। यह चोट और समस्या दोनों ही प्रकारों की हो सकती है, हल्की और गंभीर।

Image Source

एसीएल इंजरी के लक्षण-  

  • चोट के समय घुटने से कड़क की आवाज आना।
  • कुछ समय के लिए ठीक प्रकार से खड़ा न हो पाना और घुटने को सीधा न कर पाना। इस तरह की समस्या तब आती है, जब चोट अचानक से घूमने, ऊंचाई से कूदने, झटके से रुकने या चलने के कारण होती है।
  • घुटने में सामने और पीछे दोनों तरफ दर्द होना।
  • चोट लगने के एक घंटे के भीतर ही घुटने में सूजन आ जाना। यह तब होता है, यदि घुटने में अंदर की तरफ चोट के कारण रक्तस्त्राव होना शुरू हो जाता है।
  • चोट लगने के तुरन्त बाद यदि अचानक से सूजन आ जाती है, तो यह गंभीर समस्या का संकेत भी हो सकता है।
  • जिस घुटने में चोट लगी हो उसे हिला-डुला न पाना और चल भी न पाना। घुटने में तेज दर्द होना।

यदि जाँच के बाद, चोट गंभीर पाई जाती है तो इसके कारण डॉक्टर आपको हमेशा के लिए खेलने, भागने और दौड़ने से मना कर सकते हैं। आपको हर वह गतिविधि करने से मना कर दिया जाता है, जिससे आपके घुटने पर दबाव पड़े।



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !