ओवुलेशन (निषेचन) से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां

भाषा चयन करे

18th May, 2017

Ovulation ke bare mein kaise jane? | ओवुलेशन के बारे में कैसे जानें? | How to know about ovulation?ओवुलेशन हर एक महिला के शरीर में होने वाली एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें हर महीने उसकी ओवरी (अंडाशय) से एक एग (अंडाणु), निकलता है और यदि यही एग, स्पर्म (शुक्राणु) से मिलकर एम्ब्रोय (भ्रूण) का निर्माण करता है। ज्यादातर महिलाओं को ओवुलेशन के बारे में जानकारी नहीं होती। जहाँ हम अपने पुराने लेखों में ओवुलेशन क्या है और यह कब होता है जैसी जानकारियां दे चुके हैं, वहीं अब हम इसके बारे में कुछ ऐसी महत्वपूर्ण जानकारियां दें रहें हैं, जो प्रेगनेंसी की तैयारी कर रही महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद हो सकती है।

Image Source

 

ओवुलेशन से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां-

  • महिलाओं के शरीर में उसके  पूरे जीवन में जितने भी एग निकलते हैं, उनकी संख्या महिला के जन्म के साथ ही निश्चित हो जाती है।  
  • गर्भ निरोधक दवाएं लेने पर ओवुलेशन नहीं होता और फर्टिलाइजेशन (निषेचन) भी रुक जाता है।
  • महिला के अंडाशय से निकलने के बाद एग 4 से लेकर 24 घंटों तक ही जीवित रह सकता है।
  • सफ़ेद रंग का गाढ़ा और पारदर्शी पदार्थ ओव्युलेशन की तरफ इशारा करता है।
  • ओवुलेशन के दौरान, जो सफ़ेद रंग का चिकना पदार्थ निकलता है, वही स्पर्म को एग से मिलने में मदद करता है।
  • गर्भ निरोधक गोलियां (कॉन्ट्रसेप्टिव पिल्स) ओवुलेशन की प्रक्रिया को ही रोक देती है।
  • यदि किसी महिला के अंडाशय से दो अंडे बाहर आ जाते हैं, तो उसे ट्विन्स प्रेगनेंसी हो जाती है।
  • एक बार ओवुलेशन होने, एग के 24 घंटों के अदंर स्पर्म से मिलने और उसके फर्टिलाइज होने के बाद, इम्प्लांटेशन (उसके गर्भ में पहुंचने) में कम से कम 4 और ज्यादा से ज्यादा 12 दिनों का समय लगता है।
  • ओवुलेशन की प्रक्रिया पर, तनाव, किसी दवाई, या किसी अन्य बाहरी घटना का असर भी पड़ सकता है।
  • यदि महिला के मासिक धर्म में गड़बड़ हो तो इससे ओवुलेशन की प्रक्रिया भी प्रभावित होती है।
  • ओवुलेशन के दिन प्रेम संबंध बनाने से प्रेगनेंसी की सम्भावनाएं सबसे ज्यादा होती हैं।

 



अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !





अधिक जानकारी के लिए क्लिक करे !